DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › विधानसभा चुनाव पर चार अगस्त को कांग्रेस तय करेगी चुनावी रोडमैप,ये होगा खास
उत्तराखंड

विधानसभा चुनाव पर चार अगस्त को कांग्रेस तय करेगी चुनावी रोडमैप,ये होगा खास

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनPublished By: Himanshu Kumar Lall
Wed, 28 Jul 2021 07:44 PM
विधानसभा चुनाव पर चार अगस्त को कांग्रेस तय करेगी चुनावी रोडमैप,ये होगा खास

कांग्रेस की सभी चुनावी कमेटियों को एक अगस्त तक अपनी रणनीति और भविष्य का ब्ल्यू प्रिंट हाईकमान और प्रदेश नेतृत्व को देना होगा। इसके आधार पर कांग्रेस अपना चुनावी रोडमैप विधानसभा चुनाव-2022 के लिए तैयार करेगी। अगले हफ्ते मंगल और बुधवार (04 अगस्त) को सभी समितियों के साथ विचार मंथन कर इसे अंतिम रूप दे दिया जाएगा। प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल के कार्यभर ग्रहण के 24 घंटे के भीतर ही कांग्रेस एक्शन मोड में आ गई। बुधवार को राजीव भवन में प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव और गोदियाल ने बंद कमरे में चुनावी कमेटियों के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और संयोजकों के साथ चर्चा की। सामान्य परिचय के बाद प्रभारी ने सभी पदाधिकारियों को तत्काल काम पर जुटने के निर्देश दिए।

अपनी अपनी कमेटी की जिम्मेदारी के अनुसार भावी तैयारी का खाका तैयार करने के निर्देश दिए। सूत्रों के अनुसार कमेटियों को कहा एक अगस्त तक रिपेार्ट दे देने को कहा गया है। प्रभारी ने कहा कि प्रदेश की जनता बहुत उम्मीदों के साथ कांग्रेस की ओर देख रही है। प्रदेश की भाजपा सरकार के कुशासन की वजह से जनता त्रस्त है। आगामी विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फैंकेने के लिए सभी एकजुट होकर काम करना होगा। चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने भी सभी को एक ताकत के रूप में काम करने को कहा।

सहप्रभारी राजेश धर्माणी, दीपिका पांडे, राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, कार्यकारी अध्यक्ष जीतराम, रंजीत रावत, भुवन कापड़ी, और तिलकराज बेहड़, कोषाध्यक्ष आर्येंद्र शर्मा, पूर्व काबीना मंत्री दिनेश अग्रवाल, एसएस नेगी, महेंद्र सिंह पाल, राजेंद्र भंडारी, धीरेंद्र प्रताप, विजय सारस्वत, सूर्यकांत धस्माना, राजीव महर्षि, आदि मौजूद रहे। 

कांग्रेस का एकजुटता के साथ अनुशासन पर जोर
वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का पूरा फोकस एकजुटता और सख्त अनुशासन पर रहेगा। चुनाव कमेटियों की बैठक में कुछ पदाधिकारियों ने अनुशासन का मुद्दा उठाते हुए प्रदेश नेतृत्व से ठोस कदम उठाने का सुझाव भी दिया है। प्रभारी ने अनुशासन समिति का जल्द गठन करने का आश्वासन दिया है।
अनुशासन समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिंह का कोरोना काल में निधन हो गया था। तब से अनुशासन समिति बिना अध्यक्ष के हैं। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस में अनुशासन का पालन करना और कराना शुरू से बड़ी चुनौती रहा है। प्रमोद के कार्यकाल में भी कई बार अनुशासनहीनता की गतिविधियां हुई थी,लेकिन प्रदेश नेतृत्व हर बार अनेदखी करता रहा। अब चुनाव करीब होने की वजह से कांग्रेस नेतृत्व अनुशासनहीनता को हल्के में लेने को तैयार नहीं। प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल ने कहा पार्टी अनुशासन को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाएगी।

बूथ स्तर तक तय की जाएं जिम्मेदारियां
बैठक में वरिष्ठ पदाधिकारियों ने सुझाव दिया कि बूथ स्तर पर कार्यकर्ता और पदाधिकारियों की जिम्मेदारियां अभी से तय करनी होंगी। कार्यकारी अध्यक्ष भुवन कापड़ी ने कहा कि बूथ कमेटी, पोलिंग एजेंट और प्रचार समिति के पदाधिकारियों को तीन तीन दिन का विशेष प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। इसके बार हर विधानसभा क्षेत्र में कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किए जाएं। इससे चुनाव के दिन सभी काम नियोजित तरीके से हो पाएंगे।
कार्यकारी अध्यक्ष रणजीत रावत ने भी इसका समर्थन किया। रावत और प्रदेश उपाध्यख धीरेंद्र प्रताप ने भाजपा के पन्ना प्रमुख की तर्ज पर बूथ सारथी नियुक्त करने का सुझाव दिया।

बल्युटिया-दसौनी बने मंडलीय मीडिया प्रभारी
कांग्रेस ने मंडलीय मीडिया प्रभारी निुयक्त कर दिए। दीपक बल्युटिया को कुमांऊ मंडल और गरिमा महरा दसौनी को गढ़वाल मंडल का मीडिया प्रभारी बनाया गया। प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने बुधवार को दोनों नेताओं की नियुक्ति की। उन्होंने दोनेां प्रभारियों से अपेक्षा की कि वो कांग्रेस की परंपरा और उपलब्धियों केा जन जन तक पहुंचाने का काम करेंगे।

संबंधित खबरें