ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडउत्तरकाशी के बाद टिहरी जिले में सांप्रदायिक टेंशन, समुदाय विशेष के लाेगों को 10 दिन के अंदर शहर छोड़ने की दी चेतावनी

उत्तरकाशी के बाद टिहरी जिले में सांप्रदायिक टेंशन, समुदाय विशेष के लाेगों को 10 दिन के अंदर शहर छोड़ने की दी चेतावनी

उत्तराखंड में उत्तरकाशी के बाद अब टिहरी गढ़वाल जिले में सांप्रदायिक तनाव फैलता नजर आ रहा है। एक संगठन की ओर से एक समुदाय विशेष के लोगों को टिहरी जिले के कुछ क्षेत्रों को खाली करने की चेतावनी दी गई है।

उत्तरकाशी के बाद टिहरी जिले में सांप्रदायिक टेंशन, समुदाय विशेष के लाेगों को 10 दिन के अंदर शहर छोड़ने की दी चेतावनी
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानFri, 09 Jun 2023 08:16 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड में उत्तरकाशी के बाद अब टिहरी गढ़वाल जिले में सांप्रदायिक तनाव फैलता नजर आ रहा है। एक संगठन की ओर से एक समुदाय विशेष के लोगों को टिहरी जिले के कुछ क्षेत्रों को खाली करने की चेतावनी दी गई है। हिन्दुस्तान टाइम्स रिपोर्ट के अनुसार, विश्व हिंदू परिषद (विहिप), बजरंग दल ने 5 जून को एक पत्र में कहा, “एक विशेष समुदाय के लोग आइसक्रीम विक्रेता, स्क्रैप कलेक्टर और अन्य के रूप में काम करके ग्रामीण क्षेत्रों में फैल रहे हैं।

वे हमारी "रोटी" (आजीविका), "बेटी" (बेटियाँ), "चोटी" (धर्म) और हमारे पूर्वजों की विरासत के लिए एक बढ़ता हुआ खतरा हैं।  इस संबंध में स्थानीय लोगों ने इस समुदाय के लोगों को पूरी जौनपुर घाटी से चले जाने के लिए 10 दिन का अल्टीमेटम दिया है। अगर इस समुदाय के लोगों को 10 दिन में यमुनाघाटी के नैनबाग, जाखड़, नागटिब्बा, थत्यूर, सकलाना, डमटा, पुरोला, बड़कोट, उत्तरकाशी से नहीं निकाला गया तो व्यापारी, बजरंग दल, विहिप की टिहरी शाखा समेत स्थानीय लोग धरना प्रदर्शन करेंगे।

यमुना पुल पर और राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया जाएगा, ” पत्र में कहा गया है। पत्र की एक कॉपी नैनाग उप चौकी प्रभारी, तहसीलदार नैनबाग, एसएसपी टिहरी गढ़वाल को भी भेजी गई है।  विश्व हिंदू परिषद के टिहरी गढ़वाल जिले के प्रभारी सुरम तोपवाल ने कहा, 'हमने जिला प्रशासन से विशेष समुदाय के लोगों का सत्यापन अभियान चलाने और उन्हें बेदखल करने का आग्रह किया है।

हमने 20 जून को विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है। इससे पहले 4 जून को उत्तरकाशी के पुरोला में मुस्लिम व्यापारियों को दुकान खाली करने के पोस्टर लगे थे. कुछ जगहों पर मुस्लिम दुकानों को तो ‘क्रॉस मार्क’ से चिह्नित किया गया था। हालांकि, पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए तुरंत ही पोस्टों को हटा लिया था। 

उत्तराखंड कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने कहा, पुष्कर सिंह धामी सरकार कानून व्यवस्था से लेकर महिला सुरक्षा, लीक से हटकर भर्तियां करने तक हर मोर्चे पर विफल रही है। यह इन्हीं सब कमियों पर परदा डालने का प्रयास है। चुनाव से पहले ऐसा हर बार होता है।

व्यक्तिगत घटनाओं को केवल कानून और व्यवस्था के मुद्दों के रूप में देखा जाना चाहिए। पूरे समुदाय को क्यों निशाना बनाया जा रहा है? उत्तराखंड एक शांतिपूर्ण राज्य है और यहां सभी समुदाय एक साथ रहते हैं। वे देवभूमि में जहर फैला रहे हैं जो लंबे समय में इसके पर्यटन को भी नुकसान पहुंचाएगा।

प्रदेश बीजेपी मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने कहा, 'कांग्रेस को स्पष्ट करना चाहिए कि वे लैंड जिहाद, लव जिहाद का समर्थन करते हैं या विरोध। कुछ लोग देवभूमि को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। हम किसी विशेष समुदाय को निशाना नहीं बना रहे हैं, लेकिन देवभूमि की पवित्रता को बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे।”

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें