DA Image
29 जून, 2020|11:27|IST

अगली स्टोरी

परिवहन सेक्टर को उभारने के लिए कॉमर्शियल वाहनों की आयु सीमा दो साल बढ़ाने की मांग 

कोरोना की वजह से मुश्किल दौर से गुजर रहे परिवहन कारोबारियों ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत से कामर्शियल वाहनों की आयु सीमा दो साल बढ़ाने की मांग की है।

चारधाम यात्रा को शुरू करने की पैरवी करते हुए ड्राइवर-कंडक्टर को 10 से 15 हजार रुपये की एकमुश्त आर्थिक सहायता देने की गुजारिश भी की।  

रविवार को पूर्व दायित्वधारी संदीप गुप्ता के नेतृत्व में परिवहन महासंघ के पदाधिकारियों ने कैंट रोड स्थित सीएम आवास में सीएम से मुलाकात कर ज्ञापन दिया।

उन्होंने सीएम को बताया कि कोरोना की वजह से राज्य में पर्यटन के साथ परिवहन सेक्टर बुरी तरह से प्रभावित है। महासंघ के अध्यक्ष सुधीर राय और यातायात एवं पर्यटन विकास सहकारी संघ के उपाध्यक्ष नवीन चंद्र रमोला ने सीएम से राज्य के सभी कामर्शियल वाहनों की आयु सीमा दो साल बढ़ाने और डाइवर-कंडक्टर को आर्थिक सहायता देने की मांग की।  

विक्रम ट्रैंपो महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष महंत विनय सारस्वत ने सीएम से चारधाम यात्रा को जल्द शुरू करने का सुझाव दिया। कोरोना के लिहाज से अब स्थितियां पहले के मुकाबले बेहतर हैं।  

सीएम ने परिवहन कारोबारियों की बातों को सुनने के बाद उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। सिटी बस महासंघ ने सीएम को भेजा पत्र: देहरादून महानगर सिटी बस महासंघ ने सरकार से सितंबर माह तक वाहनों के सभी कर माफ करने की मांग की है।  

महासंघ के अध्यक्ष विजय वर्धन डंडरियाल ने कहा कि केंद्र की गाइड़लाइन में देशभर में सितंबर माह तक सभी वाहन कर माफ करने का जिक्र है, लेकिन उत्तराखंड में सरकार ऐसा करने को तैयार नहीं है।

 

परिवहन सेक्टर बड़ी उम्मीदों के साथ सरकार की ओर देख रहा है। वाहन की आयु सीमा बढ़ने से कोरोना काल के नुकसान की कुछ भरपाई होगी।
सुधीर राय, अध्यक्ष-उत्तराखंड परिवहन महासंघ 


राज्य का पूरा पर्यटन और परिवहन सेक्टर करीब करीब 90 फीसदी चारधाम यात्रा पर निर्भर करता है। सरकार को कोरोना स्वास्थ्य सुरक्षा मानकों को कुछ सरल करते हुए यात्रा को शुरू करना चाहिए।
महंत विनय सारस्वत, अध्यक्ष-विक्रम टैँपों महासंघ


 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:commercial vehicle age should be relaxed in uttarakhand