DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

योग-आयुर्वेद समेत कई मामलों में चीन और पतंजलि साथ काम करेंगे

पतंजलि योगपीठ

पतंजलि योगपीठ (Patanjali Yogpeeth) के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण (Balkrishna) ने बीजिंग के निकट हार्वे प्रोवेंस में वहां के गवर्नर ल्यूगांव लिन के साथ भेंटवार्ता कर भारत-चीन के रिश्तों को मधुर बनाने की एक ठोस पहल की है। शनिवार को चीन के हार्वे प्रोवेंस के नंदगांव में नंदगांव औद्योगिक पार्क की प्रशासनिक समिति और पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, भारत और दो अन्य संस्थाओं के बीच एमओयू (समझौता ज्ञापन) पर हस्ताक्षर किए गए।

इस अवसर पर आचार्य ने कहा कि हमें 'वसुधैव कुटुम्बम्' और 'विश्व बन्धुत्व' की भावना से एक-साथ मिलकर कार्य करना है। इस दौरान चीन सरकार ने भारत के साथ संस्कृति, परंपरा, योग, आयुर्वेद, अनुसंधान, जड़ी-बूटी अन्वेषण, योग-केंद्र, पर्यटन, सूचना प्रोद्यौगिकी, शिक्षा, मीडिया आदि गतिविधियों के लिए कार्य करने को स्वीकृति दी। इसके लिए सभी प्रकार के संसाधन उपलब्ध कराने का आश्वासन भी दिया। आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि यह एमओयू भारतीय संस्कृति, परम्परा तथा विभिन्न कलाओं के प्रचार-प्रसार में सहायक होगा। यदि कोई भारतीय संस्था, कम्पनी, सरकारी या गैर सरकारी संगठन यहां कार्य करना चाहे तो इस समझौते के अनुसार उन्हें यहां पूरा सहयोग मिलेगा।

बैठक में हार्वे प्रोवेंस के डिप्टी गर्वनर गाओ लंगुवा, स्काई टीवी के सीएमडी चेन जियानचेंग, वू झिगुआ, झेंग बाओशान, झू झेनपेंग तथा अन्य गणमान्य उपस्थित थे। यात्रा में मार्टिन स्काई, यू जेन पेंग, नेपाल के किरण आदि शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:China and Patanjali will work together in many cases including yoga and Ayurveda