DA Image
29 जून, 2020|5:42|IST

अगली स्टोरी

कोरोना संकट: अगले 10 दिन उत्तराखंड के लिए बेहद अहम होंगे, जानिए वजह 

396 new cases of corona virus in gujarat  27 more deaths  file photo

कोरोना संक्रमण के लिहाज से राज्य के लिए अगले दस दिन बेहद अहम होंगे। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने क्वारंटाइन लोगों समेत जनता से भी विशेष सतर्कता बरतने की अपील की है।

उन्होंने कहा है कि, सख्ती के साथ क्वारंटाइन का पालन करवाया जाएगा। अगले पांच दिनों में गुजरात, महाराष्ट्र, त्रिवेंद्रम, यूपी, दिल्ली, जयपुर से ट्रेनों से प्रवासियों को लाया जाना है। 

मुख्य सचिव ने कहा कि अभी कोरोना का असर जल्द खत्म होने वाला नहीं है। ऐसे में सभी लोगों को एहतियात बरतने की जरूरत है। करीब एक महीना लोग संयम से रहें।

जिन्हें क्वारंटाइन किया गया है, अगर अगले दस दिन उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आने के साथ ही उनमें दूसरे लक्षण भी नहीं दिखते हैं तो ऐसे लोगों को घर भी भेजा जा सकता है।

राज्यभर में 1.54 लाख लोग आ चुके हैं। जबकि 2.47 लाख पंजीकरण भी हुए हैं। हालांकि, सैंपल अभी 20 हजार के करीब हुए हैं। ऐसे में शेष लोग बस-ट्रेन से लाए जा रहे हैं। इसके लिए व्यवस्था बनाई जा रही है। 200 लोग विदेशों से भी आ चुके हैं, जो दिल्ली, लखनऊ, कोच्चि, केरल में क्वारंटाइन हैं।

 
मुख्य सचिव बोले:राज्यों से मांगी जा रही रेड जोन वालों की सूची
मुख्य सचिव बोले, बाहरी राज्यों से रेड जोन के क्षेत्रों की सूची मांगी जा रही है, ताकि कोर्ट के निर्देशानुसार रेड जोन से आने वालों को संस्थागत क्वारंटाइन किया जा सके। उन्होंने कहा कि जो क्षेत्र ज्यादा संक्रमित हैं, वहां लोगों को संस्थागत क्वारंटाइन किया जा रहा है, शेष जगह होम क्वारंटाइन।
 

कोरोना से नहीं कैंसर से मौत
ऋषिकेश एम्स में बीते दिनों हुई महिला की मौत को मुख्य सचिव ने कोरोना से हुई मौत नहीं माना। उन्होंने कहा कि, महिला कैंसर से पीड़ित थी। जिस महिला की मौत हुई, वो कोरोना पॉजिटिव जरूर थी, लेकिन मौत का कारण कोरोना नहीं है।

 

छूट: क्वारंटाइन विशेषज्ञ उद्योगों में कर सकेंगे काम
देहरादून। मुख्य सचिव ने कहा कि उद्योगों को विशेष राहत दी गई है। अगर दूसरे राज्यों से उनका स्टाफ या कोई और विशेषज्ञ किसी विशेष काम को कुछ समय के लिए आता है तो वो क्वारंटाइन रहकर भी काम कर सकेगा।

एक तय समय पर पूरी सुरक्षा और दूरी बरतते हुए क्वारंटाइन सेंटर से उद्योगों में जाकर ऐसे लोग काम कर सकेंगे। 14 दिन भी वो अपनी सेवाएं दे सकेंगे। इससे उद्योगों को राहत मिलेगी। अभी राज्य में 6000 स्थानों पर निर्माण शुरू हो चुके हैं।

 

सभी नियमों का पालन करते हुए चलेगी फ्लाइट
मुख्य सचिव ने कहा कि नई दिल्ली-देहरादून, मुंबई से  देहरादून और देहरादून से पंतनगर के बीच कुल  सात फ्लाइट चलेंगी। इनके संचालन को केंद्र की गाइड लाइन का सख्ती से पालन करना होगा। एयरपोर्ट, हवाई जहाज को सेनेटाइज कराया जाएगा। साथ ही जो लोग आएंगे, उन्हें अपने खर्चे पर क्वारंटाइन होना पड़ेगा।

 

एहतियात:क्वारंटाइन लोगों को हिदायत, कई स्तरों पर निगरानी भी
मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा है कि क्वारंटाइन किए गए लोगों पर बराबर नजर रखी जा रही है। मोबाइल नंबर के जरिये उनसे संपर्क किया जा रहा है। यदि किसी का नंबर बंद पाया गया तो सख्ती से निपटा जाएगा।
 
प्रवासियों पर नजर रखने को कई स्तर का सिस्टम तैयार किया गया है। आशा, एएनएम, आंगनबाड़ी, ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी और पटवारी सब नजर रख रहे हैं।
 
फोन से उनके स्वास्थ्य की ंजानकारी ली जा रही है। उनकी दूसरी परेशानियां भी पूछी जा रही हैं। उन्होंने बताया कि हर जिले में रेस्पॉन्स टीम भी बनाई गई है। इसके बाद भी यदि लोग जान-बूझकर अपना मोबाइल बंद करते हैं, तो उनसे सख्ती से निपटा जाएगा।
 
उन्होंने कहा कि प्रवासियों को केंद्र की गाइड लाइन के अनुसार सख्ती से क्वारंटाइन कराया जा रहा है। जो भी नियमों को नहीं मानेंगे, उनके खिलाफ सख्ती बरती जाएगी।
 
उत्तराखंड में नियमों का पालन नहीं करने पर तीन हजार मुकदमे दर्ज होने के साथ 20 हजार लोगों की गिरफ्तारियां भी हुई हैं। मामले बढ़ने के बावजूद लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। किसी भी स्थिति से निपटने को राज्य के पास पर्याप्त इंतजाम है।
 
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:chief secretary utpal kumar singh says coming days would crucial for uttarakhand against covid 19 due to corona virus pandemic in uttarakhand