ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडभक्तों का सैलाब देख चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन का कोटा बढ़ा, धामी सरकार का बड़ा फैसला 

भक्तों का सैलाब देख चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन का कोटा बढ़ा, धामी सरकार का बड़ा फैसला 

उत्तराखंड आने वाला हर श्रद्धालु यात्रा के बाद जब अपने प्रदेश लौटे तो वो उत्तराखंड का ब्रांड एंबेडसर बनकर लौटे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कहा कि श्रद्धालुओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए।

भक्तों का सैलाब देख चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन का कोटा बढ़ा, धामी सरकार का बड़ा फैसला 
chardham offline registration quota increased devotee crowd dhami government decision
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तान टीमMon, 03 Jun 2024 06:54 PM
ऐप पर पढ़ें

चारधाम दर्शन को भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। 10 मई से शुरू चारधाम यात्रा में यूपी, महाराष्ट्र, एमपी, राजस्थान समेत अन्य राज्यों से तीर्थ यात्री गंगोत्री, बदरीनाथ-केदारनाथ आदि चारों धामों में तीर्थ यात्रियों का हुजूम उमड़ पड़ा है। यात्रियों की भीड़ को देखते हए सरकार ने चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन का स्लॉट बढ़ा दिया है।

विदित हो कि श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए सरकार ने रजिस्ट्रेशन पर रोक लगा दी थी। चारधाम ऑफलाइन  रजिस्ट्रेशन पुन: 1 जून से शुरू हुआ था। चारधाम यात्रा पर जाने के लिए हरिद्वार और ऋषिकेश में 1500-1500 रजिस्ट्रेशन किए जा रहे थे। रजिस्ट्रेशन की कम संख्या होने पर यात्री कई बार विरोध भी दर्ज करा चुके हैं। 

चारधाम यात्रा के लिए अब रोजना चार हजार यात्री रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को अधिकारियों को तीन हजार की सीमा को बढ़ाकर चार हजार करने के निर्देश दिए। तीर्थ यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सरकार ने इस संख्या को बढ़ाने का निर्णय किया।

दोनों स्थानों पर अब दो-दो हजार यात्री रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। सोमवार सुबह मुख्यमंत्री आवास में नियमित बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता श्रद्धालुओं की सुविधा और सहुलियत है। कोई भी ऐसा कार्य नहीं होना चाहिए जिससे श्रद्धालुओं को दिक्कत हो।

उत्तराखंड आने वाला हर श्रद्धालु यात्रा के बाद जब अपने प्रदेश लौटे तो वो उत्तराखंड का ब्रांड एंबेडसर बनकर लौटे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कहा कि यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए। यातायात व्यवस्था, स्वास्थ्य जांच के साथ साथ बुनियादी आवश्यकताओं की भी यात्रा मार्ग पर पर्याप्त व्यवस्था हर वक्त रखी जाए।

चार से पांच घंटे में स्लॉट फुल
10 जून से शुरू दोबारा शुरू चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन का स्लॉट महज चार से पांच घंटे में ही खत्म हो जाता था। सुबह 7 बजे से लाइन में लगे तीर्थ यात्रियों को स्लॉट नहीं मिलने पर वह कई बार विरोध भी दर्ज करा चुके हैं। ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए टोकन नहीं मिलने पर ऋषिकेश पहुंचे तीर्थयात्रियों ने हंगामा किया।

संयुक्त यात्रा बस अड्डा रोड पर हंगामा करने के दौरान यात्रियों ने रजिस्ट्रेशन कराने की मांग की। पुलिस के समझाने के बाद आक्रोशित यात्री शांत हुए। चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने के लिए बिहार, मध्यप्रदेश, यूपी, राजस्थान, महाराष्ट्र आदि राज्यों के यात्री ज्यादा दिखे।
 
 

कोटा खत्म होने के बाद बढ़ाए 500 स्लॉट
चारधाम यात्रा के ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के 1500 स्लॉट करीब पौने ग्यारह बजे खत्म हो गए। स्लॉट खत्म होने से खफा यात्रियों ने इस दौरान हंगामा भी किया लेकिन एक घंटे बाद पांच सौ स्लॉट बढ़ाए गए। इसके बाद पांच सौ यात्रियों को भी चारधाम के लिए स्लॉट मिल सके। स्लॉट मिलने पर यात्रियों ने खुशी जाहिर की। 

टॉकन को लेकर ऋषिकेश में फिर हंगामा
चारधाम यात्रा में ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए टॉकन नहीं मिलने पर फिर तीर्थयात्री भड़क गए। उन्होंने संयुक्त यात्र बस अड्डा मार्ग पर हंगामा करते हुए रोडवेज की बसों को रोक दिया। मामला बढ़ने पर पुलिस ने उन्हें समझाने पहुंची।

सरकार के रजिस्ट्रेशन के नियम का हवाला दिया, जिसके बाद आक्रोशित यात्रियों का गुस्सा शांत हुआ। सोमवार दोपहर में मध्यप्रदेश, राजस्थान, बिहार समेत विभिन्न प्रदेशों के यात्रियों का पारा चढ़ गया। संयुक्त यात्रा बस अड्डे पर लाइन में लगने के बावजूद उन्हें टॉकन नहीं मिला।

बोले, 1500 से रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था है, जिसमें 500 टॉकन ही बांटे जा रहे हैं। गुस्साए दर्जनों यात्री नाराजगी जाहिर करते हुए अड्डे के बाहर सड़क पर आ गए। उन्होंने अड्डे पर पहुंचने वाली रोडवेज की बसों को रोक दिया। हंगामा की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। यात्रियों को समझाने के प्रयास किया।

बस अड्डा चौकी प्रभारी नवीन डंगवाल के मुताबिक कुछ यात्रियों का कहना था कि काउंटर पर सिर्फ 500 यात्रियों को ही टॉकन दिए गए। संबंधित कर्मचारियों ने 1000 टॉकन चारधाम ट्रांजिट एवं पंजीकरण में रूके यात्रियों को बांट दिए।

बताया कि कोतवाल शंकर सिंह बिष्ट ने यात्रियों को समझाते हुए सरकार के रजिस्ट्रेशन से संबंधित स्लॉट सिस्टम से अवगत कराया। काफी समझाने के बाद बामुश्किल यात्री शांत हुए।
2000 यात्रियों का हुआ रजिस्ट्रेशन