ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडभक्तजनों को ‘भगवान’ के दर्शन की नहीं होगी अब टेंशन, चारधाम में खत्म हुआ सीमित ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन 

भक्तजनों को ‘भगवान’ के दर्शन की नहीं होगी अब टेंशन, चारधाम में खत्म हुआ सीमित ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन 

चारधाम के शुभारंभ होने के साथ ही शुरुआती दिनों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। चारधाम यात्रा रूट पर ट्रैफिक जाम से भी लोग परेशान हुए थे। ऋषिकेश और हरिद्वार में श्रद्धालुओं का बैकलॉग खत्म हुआ है।

भक्तजनों को ‘भगवान’ के दर्शन की नहीं होगी अब टेंशन, चारधाम में खत्म हुआ सीमित ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन 
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानWed, 12 Jun 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड चारधाम यात्रा पर जाने वाले भक्तों के लिए बड़ा अपडेट सामने आया है। केदाारनाथ, बदरीनाथ, यमुनोत्री समेत चारों धामों के दर्शन के लिए भक्तजनों को अब किसी भी प्रकार की कोई टेंशन नहीं होगी। जी हां, चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं के बैकलॉग खत्म होने पर ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन की सीमित संख्या से रोक हटा दी गई है।

ऐसे में अब चारों धामों में जाने वाले तीर्थ यात्री ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कर यात्रा पर जा सकते हैं। इसके अलावा, तीर्थ यात्रियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की भी सुविधा उपलब्ध है। आपको बता दें कि 10 मई से शुरू चारधाम यात्रा में यूपी, एमपी, राजस्थान, महाराष्ट्र आदि राज्यों से भारी संख्या में तीर्थ यात्री दर्शन करने को उत्तराखंड पहुंच रहे हैं।

चारधाम के शुभारंभ होने के साथ ही शुरुआती दिनों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। चारधाम यात्रा रूट पर ट्रैफिक जाम से भी लोग परेशान हुए थे। चारधाम यात्रा के लिए ऋषिकेश और हरिद्वार में श्रद्धालुओं का बैकलॉग खत्म हो गया है।

जो भी श्रद्धालु आ रहे हैं, उनका पंजीकरण कर चारधाम यात्रा पर भेजा जा रहा है। पंजीकरण की संख्या अब सीमित नहीं है। गढ़वाल आयुक्त विनय शंकर पाण्डेय ने बताया कि रजिस्ट्रेशन की सीमित संख्या को खत्म कर दिया गया है। 

हरिद्वार-ऋषिकेश में ऑफलाइन रजिस्ट्रशन की उमड़ा हुजूम
ऋषिकेश और हरिद्वार में चारधाम यात्रा के ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए तीर्थ यात्रियों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। चारधाम यात्रा में बुधवार को भी आफलाइन पंजीकरण के लिए श्रद्धालुाओं का हुजूम उमड़ पड़ा था। सुबह सात बजे से शुरू हुए ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन में काफी संख्या में श्रद्धालु लाइन में लगे रहे। तपती गर्मी के बावजूद भी दोपहर तक रजिस्ट्रेशन के लिए अभी भी यात्री चारधाम पंजीकरण कार्यालय एवं ट्रांजिट केंद्र में डटे हुए हैं।

ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन थी सीमित
चारधाम यात्रा में तीर्थ यात्रियों की भारी संख्या को देखते हुए सरकार ने रजिस्ट्रेशन की संख्या को सीमित किया था। हरिद्वार और ऋषिकेश में हररोज 1500-1500 ऑफलाइन रजिस्ट्र्रेशन हो रहे थे। लेकिन, यात्रियों की भारी संख्या को देखते हुए विगत दिनों रजिस्ट्रेशन की संख्या को बढ़ाकर 2000 कर दिया गया था। 

चारों धामों में केदारनाथ धाम में पहुंचे ज्यादा भक्तजन
चारों धामों में केदारनाथ धाम में दर्शन करने वाले तीर्थ यात्रियों की संख्या सबसे अधिक रही। 10 मई से शुरू चारधाम यात्रा में अभी तक 8 लाख से तीर्थ यात्रियों ने केदारनाथ धाम में दर्शन किए हैं। जबकि, बदरीनाथ धाम में पांच लाख के करीब भक्तजन पहुच चुके हैं। गंगोत्री और यमुनोत्री धामों में साढ़े तीन लाख से ज्यादा भक्त पहुंच चुके हैं। 

एक महीने में 100 से ज्यादा भक्तों की हुई मौत
चारधाम यात्रा में भक्तों की भारी भीड़ के बीच एक चिंता वाली खबर भी सामने आई है। पिछले एक महीने में 100 से भक्तों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य संबंधी कारणों की वजह से ज्यादा मौंतें हुईं हैं। केदारनाथ धाम में मौतों का आंकड़ा सबसे अधिक है।

चार धाम यात्रा के लिए ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन
बदरीनाथ, गंगोत्री, केदारनाथ समेत चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु पर्यटन विभाग की वेबसाइट registrationandtouristcare.uk.gov.in पर जाकर पंजीकरण कर सकते हैं। इसके साथ ही श्रद्धालु मोबाइल ऐप touristcareuttarakhand से भी पंजीकरण करा सकते हैं।

इसके अलावा पंजीकरण का एक और विकल्प व्हाट्सअप नंबर 8394833833 पर यात्रा टाइप कर पंजीकरण हो सकता है। टोल फ्री नंबर 01351364 नंबर पर भी पंजीकरण की सुविधा दी गई है।

चारधाम यात्रा पर स्थलीय निरीक्षण जरूरी: सीएम धामी 
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि चारधाम यात्रा रूट पर स्थलीय निरीक्षण को प्राथमिका दें। कहा कि यात्रा रूट पर बिजली, पानी, स्वास्थ्य आदि बुनियादी सुविधाओं की कोई कमी नहीं होनी चाहिए। सीएम धामी ने यात्रा मार्गों पर 42 सीटर बसों की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने पर जोर दिया।