ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडकेदारनाथ-बदरीनाथ सहित चार धाम यात्रा रूट पर दवाओं से लेकर डॉक्टरों की न लें टेंशन, गंभीर मरीजों के लिए बना प्लान

केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चार धाम यात्रा रूट पर दवाओं से लेकर डॉक्टरों की न लें टेंशन, गंभीर मरीजों के लिए बना प्लान

देश-विदेश से चार धाम यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्रियों को अब अपने स्वास्थ्य के लिए टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। चार धाम यात्रा-2023 के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके तीर्थ यात्री मरीजों के लिए प्लान बना।

केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चार धाम यात्रा रूट पर दवाओं से लेकर डॉक्टरों की न लें टेंशन, गंभीर मरीजों के लिए बना प्लान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून। हिन्दुस्तान टीमThu, 30 Mar 2023 11:04 AM
ऐप पर पढ़ें

Char Dham Yatra 2023: देश-विदेश से चार धाम यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्रियों को अब अपने स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। चार धाम यात्रा-2023 के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके तीर्थ यात्रियों के लिए उत्तराखंड सरकार की ओर से हृदय रोग, हड्डी रोग विशेषज्ञों सहित अन्य स्पेशलिस्ट डॉक्टरों से लेकर जीवनरक्षक दवाओं की उपलब्धता के लिए कारगर प्लान बनाया गया है।

ऐसे में केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा पर जाने वाले यूपी, एमपी सहित अन्य राज्यों के तीर्थ यात्रियों की परेशानियां बिल्कुल भी नहीं बढ़ेंगी। बुजुर्ग और बीमार श्रद्धालुओं के उम्दा स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए सरकार सख्त कदम उठाने जा रही है। 
उत्तराखंड दौरे पर पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ  मनसुख मांडविया ने कहा है कि चार धाम यात्रा संचालन में केंद्र की ओर से हर तरह की सुविधा उत्तराखंड सरकार को दी जाएगी।

तीर्थ यात्रियों को किसी तरह की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। गुरुवार को कैनाल रोड पर जन औषधि केंद्र का निरीक्षण करने पहुंचे डॉ मांडविया ने कहा कि जनऔषधि केंद्र पर लोगों को दवांए बेहद सस्ती मिल रही है। देश में साढ़े नौ हजार से अधिक जन औषधि केंद्र संचालित हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें: केदारनाथ चार धाम यात्रा : हेली सेवा के लिए तीर्थ यात्रियों की जेब पर नहीं पड़ेगा भार, बस इतने चुकाने होंगे रुपये

जहां प्रति दिन 20 लाख से अधिक लोग लाभ ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक जिले में एक से अधिक मेडिकल कॉलेज खोलने पर रोक नहीं है। लेकिन इसके लिए जरूरी बुनियादी सुविधाएं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने गत नौ साल में मेडिकल कॉलेजों की संख्या बढ़ाकर दोगुनी कर दी है। 

एमबीबीएस और पीजी की सीटें भी दोगुनी हो गई है। कहा कि केंद्र सरकार जल्द ही देश भर से चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए एक मजबूत स्वास्थ्य सहायता और आपातकालीन प्रबंधन के लिए बुनियादी ढांचा तैयार करने जा रही है। भरोसा दिया कि चार धाम यात्रा रूट पर किसी भी गंभीर बीमारी से पीड़ित श्रद्धालुओं को तुरंत और उम्दा स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी। 

दिल, सांस व बुजुर्गों को होती है सबसे ज्यादा परेशानी
उत्तराखंड में केदारनाथ, बदरीनाथ सहित चारों धाम समुद्र तल से काफी ऊंचाई पर स्थित हैं। ऐसे में देश-विदेश से आ रहे श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य से संबंधित परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऊंचाई वाले इलाकों में ऑक्सीजन की कमी की वजह से विशेषकर दिल, सांस और बुजुर्गों की परेशानी भी बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ें:बदीरीनाथ-केदारनाथ सहित चार धाम यात्रा मार्ग पर बसों की टेंशन, इन रूटों में मिलेंगी फटाफट बसें

चारधाम में 200 श्रद्धालुओं की जा चुकी जान 
चारधाम यात्रा मे पिछले साल 2022  में चार धाम यात्रा के दौरान करीब 200 तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी है। इसमें से 71 प्रतिशत यानी 164 लोगों की मौत हार्ट अटैक से हुई। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि अब तक केदारनाथ धाम में 78, यमुनोत्री में 66, बदरीनाथ में 37 और गंगोत्री में 14 तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी है। तीर्थ यात्रियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए उत्तराखंड सरकार यात्रा रूट पर विशेषज्ञ डॉक्टरों की तैनाती कर रही है। 

यह भी पढ़ें:चार धाम यात्रा रूट पर इन चीजों पर लगी रोक, खाली प्लास्टिक बोतल लौटाने पर तीर्थ यात्रियों को मिलेंगे ₹ 10

दवाएं मुहैया कराने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल होगा
यात्रा के ऊंचे इलाकों में आपातकालीन दवाएं मुहैया कराने के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया जाएगा। हाल ही में पूर्वोत्तर क्षेत्र में कोविड-19 टीकों के परिवहन के लिए ड्रोन का सफलतापूर्वक उपयोग किया गया है, केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री गढ़वाल हिमालय में 10000 फुट से ऊपर स्थित हैं। हाल ही में एम्स ऋषिकेश ने दवाइयां देने और लेने के लिए ड्रोन सेवा शुरू की है।

गंगोत्री-केदारनाथ सहित चारों धामों के कपाट इस दिन खुलेंगे  
बदरीनाथ- केदारनाथ के बाद नवरात्रि के मौके पर गंगोत्री,  और यमुनोत्री धामों के कपाट खुलने की तारीख का ऐलान हो गया है। तीर्थ यात्रियों के लिए दोनों धामों के कपाट आगामी 22 अप्रैल 2023 को खुलेंगें। चैत्र प्रतिपदा एवं नवरात्र के शुभ अवसर पर विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट खुलने का शुभ मुहूर्त निकाला गया था।

यह भी पढ़ें:Char Dham Yatra 2023: चार धाम रूट पर मोबाइल नेटवर्क करेगा परेशान, बदरीनाथ-केदारनाथ मार्ग सहित 91 किमी में कनेक्टिविटी की दिक्कत

बदरीनाथ और केदरानाथ धामों के कपाट खुलने की घोषणा पहले ही हो चुकी है। बदरीनाथ धाम के कपाट 27 अप्रैल को  तीर्थ यात्रियों के लिए खोले जाएंगे। जबकि, केदारनाथ धाम के कपाट 25 अप्रैल को खुलेंगे। धामों के कपाट खोलने से पहले प्रशासन की ओर तैयारियां पूरी जोर से की जा रही है।