DA Image
1 नवंबर, 2020|2:17|IST

अगली स्टोरी

मठ प्रकरण: उत्पीड़न में घिरे स्कूल के शिक्षक ने दी जान, ‘गुरुजी’ के बदनाम होने से थे आहत

youth commits suicide in domestic strife body found hanging in room in badaun

राजपुर क्षेत्र में छात्रों के उत्पीड़न के आरोपों से घिरे बौद्ध स्कूल के शिक्षक ने शनिवार शाम आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट में शिक्षक ने छात्र उत्पीड़न के मामले में ‘गुरुजी’ के बदनाम होने की बात कहकर फांसी लगाने की बात लिखी है।  

राजपुर एसओ राकेश शाह ने बताया कि बौद्ध स्कूल (मठ) में तैनात नेपाल निवासी शिक्षक नुमांग लेखपा (25) का शव शनिवार को स्कूल के छात्रों ने पंखे से लटका देखा। मौके पर पहुंचे सीओ विवेक कुमार और पुलिसवालों ने खिड़की तोड़कर शव बरामद किया। पुलिस को घटनास्थल से सुसाइड नोट और मोबाइल में वॉयस रिकार्डिंग मिली है। थाना प्रभारी ने कहा कि पुलिस इसे सुसाइड मानकर जांच कर रही है। 

सुसाइड नोट : गुरुजी की बदनामी होने से आहत हूं
देहरादून। राजपुर क्षेत्र में छात्रों के उत्पीड़न के आरोपों से घिरे बौद्ध स्कूल के शिक्षक नुमांग लेखपा ने शनिवार को आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट में शिक्षक ने स्कूली छात्रों को यातना देने के प्रकरण में ‘गुरुजी’ के बदनाम होने का जिक्र कर फांसी लगाने की बात लिखी है। 
 
पुलिस को घटनास्थल से अंग्रेजी में लिखा सुसाइड नोट मिला। थाना प्रभारी ने बताया कि बेड पर एक पेज का सुसाइड नोट लिखा है।
इसमें अंग्रेजी में सात-आठ लाइन लिखी हैं, जिसमें मोबाइल में मौजूद वॉयस रिकार्डिंग सुनने को कहा है। इसमें शिक्षक ने छात्रों के प्रकरण में ‘गुरुजी’ की बदनामी होने से आहत होने और प्रतिबंधित होने के बाद भी खुद के पास मोबाइल रखने की बात कही है।
 
थाना प्रभारी ने कहा कि पुलिस इसे सुसाइड मानकर जांच कर रही है। उधर, साक्या अकादमी की प्रिंसिपल त्सेरिंग छोड़ेन ने कहा है कि उन्हें इस घटना के बारे में पता नहीं है। वह स्कूल परिसर से बाहर हैं। इस बारे में जानकारी हासिल करने पर ही कुछ कह सकेंगी। साक्या सोसाइटी के महासचिव सोनम छोग्याल ने बताया कि उन्हें अभी इस घटना की जानकारी मिली है और वह स्कूल परिसर जा रहे हैं। सम्बंधित स्कूल शिक्षक बच्चों को बुधिज्म की शिक्षा दे रहे थे। उक्त शिक्षक अकादमी परिसर में ही रहते थे।

यह  है मामला : मठ में छात्रों को यातनाएं देने के आरोप में जांच बैठी,पांच छात्र हो गए थे लापता

यह है मामला 
27 अक्तूबर को स्कूल परिसर से पांच छात्र बिना बताए चले गए थे। सोशल मीडिया में छात्रों को यातनाएं देने के आरोप वायरल हुए थे। दो छात्र नेपाल पहुंच गए थे जबकि तीन बनबसा कोतवाली में थे। 30 अक्तूबर को नुमांग स्कूल परिसर से लापता छात्रों को बनबसा से लेकर दून पहुंचे और शनिवार को स्कूल परिसर में नहीं दिखे।

इस पर शनिवार की शाम को परिसर में रहने वाले शिक्षक और छात्र नुमांग के आवास पर पहुंचे। आवास का दरवाजा बंद था। छात्रों ने खिड़की से झांकर देखा तो शिक्षक पंखे के सहारे फंदे पर झूल रहा था। इसकी सूचना छात्रों ने प्रबंधन को दी। सूचना पर सीओ विवेक कुमार समेत पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे अैर खिड़की तोड़कर शव को नीचे उतारा। 


शिक्षा विभाग बेखबर
मठ में बच्चों के उत्पीड़न के तीन दिन से चल रहे मामले से जि़ले का शिक्षा विभाग बेखबर है। प्रभारी मुख्य शिक्षा अधिकारी यशवंत चौधरी ने बताया कि उनको जानकारी नहीं है। वह सीईओ के चार्ज पर तो हैं लेकिन ऐसे मामले नहीं देखते। सीईओ के सोमवार को छुट्टी से लौटने पर वो ही इस मामले को देखेंगी। 


शिक्षक कोरोना पॉजिटिव 
देहरादून। एसपी क्राइम लोकजीत सिंह ने बताया कि कुछ छात्रों ने एक शिक्षक पर मारपीट के आरोप लगाए थे जिस पर उक्त शिक्षक के बारे में प्रबंधन से शनिवार को जानकारी ली गई। प्रबंधन ने उन्हें बताया कि उक्त शिक्षक कोरोना प्ॉाजिटिव हैं जिसके चलते वह निजी अस्पताल में दो दिन से भर्ती हैं। 


मोबाइल में रिकॉर्डिंग के जरिये भी रखी अपनी बात
देहरादून।
राजपुर क्षेत्र स्थित बौद्ध मठ में आत्महत्या करने वाले शिक्षक नुमांग मोबाइल जमा नहीं कराने और यातना प्रकरण में गुरु की बदनामी होने से बेहद आहत थे। अपने मोबाइल के माध्यम से नुमांग ने वॉयस रिकार्डिंग में अपने आत्महत्या करने के पीछे के कारणों का उल्लेख किया है।

थाना प्रभारी राकेश शाह ने बताया कि अभी तक जांच में यह सामने आया है कि बौद्ध मठ में प्रबंधन ने शिक्षकों के पास मोबाइल को प्रतिबंधित किया था। इसके बावजूद नुमांग के पास मोबाइल थे। नुमांग ने मोबाइल जमा नहीं कराया था। यह बात नुमांग को चुभ रही थी।

नुमांग ने आत्महत्या करने से पहले सुसाइड नोट लिखने के साथ ही वायस रिकार्डिंग में तीन मैसेज छोड़े थे। इसमें शिक्षक ने मैसेज छोड़ा है कि छात्रों के स्कूल से चले जाने और मारपीट के आरोप के प्रकरण से गुरुजी की बदनामी हुई है। साथ ही मोबाइल रखने से वह बेहद आहत है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:budhist monastery student assaulted dehradun police order probe students escape monastery buddhist school teacher suicide