ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड विधानसभा मानसून सत्र: भाजपा विधायकों के सवाल ही सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार पर पड़े भारी

विधानसभा मानसून सत्र: भाजपा विधायकों के सवाल ही सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार पर पड़े भारी

विधानसभा मानसून सत्र के दूसरे दिन भाजपा विधायकों के सवाल ही सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार पर भारी पड़ते दिखे। अल्पसूचित प्रश्न को छोड़कर प्रश्नकाल में केवल भाजपा विधायकों के ही सवालों का नंबर आ पाया।

 विधानसभा मानसून सत्र: भाजपा विधायकों के सवाल ही सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार पर पड़े भारी
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानThu, 07 Sep 2023 09:45 AM
ऐप पर पढ़ें

विधानसभा मानसून सत्र के दूसरे दिन भाजपा विधायकों के सवाल ही सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार पर भारी पड़ते दिखे। अल्पसूचित प्रश्न को छोड़कर प्रश्नकाल में केवल भाजपा विधायकों के ही सवालों का नंबर आ पाया। विपक्ष कांग्रेस के विधायक उनसे जुड़े ऐसे अनुपूरक सवाल पूछ पाए।

बुधवार को प्रश्नकाल के दौरान खेल एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री रेखा आर्या मौजूद नहीं थी। जिस वजह से उनके विभागों के सवालों के जबाव संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल को देने पड़े। खेल और खाद्य आपूर्ति से जुड़े सवालों के अनुपूरक सवालों पर कई बार सत्ता पक्ष के विधायकों ने उन्हें घेरने का प्रयास किया।

हालांकि संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद सीधे तौर पर किसी सवाल पर फंसे नहीं। अधिकारियों के ओर से लिखित जबाव आने तक कई बार वे पक्ष और विपक्ष के विधायकों को उलझाए रखने में कामयाब भी हुए।

आइस रिंक शुरू करने पर प्रतिदिन एक लाख आएगा बिजली खर्च सदन में डोईवाला विधायक बृजभूषण गैरोला ने महाराणा प्रताप स्पोर्टस कॉलेज की आईस स्केटिंग रिंक का मुद्दा उठाया। उन्होंने पूछा कि इस रिंक को चलाने पर सरकार का कितना खर्च आएगा। इसके जबाव में संसदीय कार्य मंत्री ने बताया कि यदि सरकार आइस रिंक को संचालित करती है तो इस पर प्रतिदिन एक लाख रुपये बिजली का ही खर्चा आएगा।

हल्द्वानी में होंगी आठ खेल प्रतियोगिताएं लालकुआं के भाजपा विधायक डॉ मोहन सिंह बिष्ट ने हल्द्वानी के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम का मुद्दा उठाया। इसके जबाव में संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि 38 वें राष्ट्रीय खेलों के दौरान इस स्टेडियम में सरकार आठ प्रतियोगिताओं का आयोजन कराएगी। इस पर कांग्रेस विधायक सुमित ह्दयेश ने कहा कि सरकार ने इस क्रिकेट स्टेडियम में कई तरह के खेल आयोजित कर उसका स्वरूप बदल दिया है। उन्होंने कहा कि इससे इस स्टेडियम को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई है।    

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें