ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडBJP-कांग्रेस के उत्तराखंड लोकसभा चुनाव में मतदान को लेकर दावे धवस्त, क्या रही वजह

BJP-कांग्रेस के उत्तराखंड लोकसभा चुनाव में मतदान को लेकर दावे धवस्त, क्या रही वजह

बूथ प्रबंधन में माहिर माने जाने वाली भाजपा के त्रिदेव मतदाताओं को बूथ तक ले जाने के लिए अपेक्षित कसरत हर जगह नहीं करवा पाए। कांग्रेस के तो कुछ स्थानों पर बस्ते तक नहीं लगे। मतदान कम हुआ।

BJP-कांग्रेस के उत्तराखंड लोकसभा चुनाव में मतदान को लेकर दावे धवस्त, क्या रही वजह
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानSun, 21 Apr 2024 10:49 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड लोकसभा चुनाव 2024 में चुनावी बाजी कौन जीतेगा? इसका जवाब जानने के लिए 4 जून का इंतजार करना होगा। लेकिन मतदाताओं को बूथ तक ले जाने की जंग दोनों प्रमुख दल हार गए। भाजपा और कांग्रेस के बूथ प्रबंधन को लेकर चुनाव पूर्व किए दावे मतदान के दिन ध्वस्त होते नजर आ रहे हैं।

बूथ प्रबंधन में माहिर माने जाने वाली भाजपा के त्रिदेव मतदाताओं को बूथ तक ले जाने के लिए अपेक्षित कसरत हर जगह नहीं करवा पाए। कांग्रेस के तो कुछ स्थानों पर बस्ते तक नहीं लगे। अब दोनों दल दावा कर रहे हैं कि उनके सारे मतदाता वोट देने पहुंचे थे।

भाजपा के प्रभाव वाली कई विधानसभा सीटों पर कम मतदान के आंकड़े इस बात का ऐलान कर रहे हैं कि जमीन पर कसरत कम हुई, हालांकि भाजपा के नेता इस तथ्य को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। पार्टी ने बूथ से लेकर पन्ना स्तर पर अनेक कार्यक्रम किए जाने का दावा किया।

इसके केंद्र में प्रत्येक वर्ग के मतदाता से सीधा संपर्क और मतदान के लिए उन्हें बूथ तक लाने की योजना थी। लेकिन कम मतदान से साफ है कि पार्टी का संगठन इस योजना को पूरी तरह धरातल पर नहीं उतार पाया।

काल सेंटर पर निर्भरता 
पार्टी ने मतदाताओं और लाभार्थियों से संपर्क के लिए कॉल सेंटर बनाए थे। इसके जरिए जरूर हर दिन हजारों लोगों को फोन किए जाते रहे। लेकिन सभी मतदाताओं तक पहुंच के लिए कार्यकर्ता घर घर नहीं पहुंच पाए।

सिर्फ सेल्फी तक सीमित रहे पन्ना प्रमुख
भाजपा ने पार्टी के सभी बड़े नेताओं को पन्ना प्रमुख बनाने हुए मतदाताओं से जोड़ने की योजना बनाई थी। लेकिन अधिकांश बड़े नेता पन्ना प्रमुख बनकर सेल्फी लेने तक ही सीमित रहे। इस वजह से पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं में भी उत्साह की कमी नजर आई।

मतदाताओं में सरकार के प्रति नाराजगी थी, इस कारण वो वोट देने नहीं गया। महंगाई और बेरोजगारी से त्रस्त लोग अब परिवर्तन चाहते हैं।
मथुरा दत्त जोशी, प्रदेश उपाध्यक्ष, कांग्रेस

भाजपा का पूरा संगठन और पन्ना स्तर तक के कार्यकर्ता घर घर संपर्क अभियान में शामिल हुए। भाजपा चुनावों में अपने वोटरों को शत प्रतिशत बूथ तक लाने में भी कामयाब रही और इसी के आधार पर हम राज्य की पांचों सीटें जीत रहे हैं।
महेंद्र भट्ट, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा