ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडदो साल से ताले में बंद हैं मजदूरों की 500 साइकिल, कब बंटेंगी? BJP विधायक ने दिया जवाब

दो साल से ताले में बंद हैं मजदूरों की 500 साइकिल, कब बंटेंगी? BJP विधायक ने दिया जवाब

कर्मकार बोर्ड से श्रमिकों को देने के लिए 500 साइकलि मंगाई थी। ये साइकिलें पिछले दो साल से देहरादून के हिंदू नेशनल स्कूल के तीन कमरों में बंद हैं। इन्हें यहां बीजेपी विधायक ने रखवाया है।

दो साल से ताले में बंद हैं मजदूरों की 500 साइकिल, कब बंटेंगी? BJP विधायक ने दिया जवाब
Sneha Baluniसंतोष चमोली,देहरादूनThu, 22 Feb 2024 10:44 AM
ऐप पर पढ़ें

कर्मकार बोर्ड से श्रमिकों के लिए दी गई 500 साइकिलें दो साल से तालों में बंद रखी हैं। इन साइकिलों को देहरादून के हिंदू नेशनल स्कूल के तीन कमरों में कबाड़ की तरह भरा गया है। आरोप है कि इन साइकिलों को राजपुर रोड विधानसभा के विधायक खजानदास ने रखवाया है। उत्तराखंड भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार बोर्ड ने पूरे राज्य में श्रमिकों को साइकिल, सिलाई मशीन और कंबल बांटने के लिए सरकार के पिछले कार्यकाल में योजना बनाई थी। 

इसके लिए बड़े पैमाने पर खरीद की गई और घपले के आरोप तक लगे। जिसकी जांच भी बैठा दी गई। ऐसे में साइकिलें और दूसरा सामान जगह-जगह डंप हो गया। इसी सामान में से 500 साइकिलें, इतनी ही सिलाई मशीन और करीब तीन सौ कंबल लक्ष्मणचौक स्थित हिंदू नेशनल इंटर कॉलेज के तीन कमरों में रखा गया है। इन कमरों पर पिछले दो साल से ताला लगा है। इंटर कॉलेज के प्रबंधक प्रवीन कुमार जैन के मुताबिक साइकिलें श्रमिकों को बांटी जानी थीं, विधायक खजानदास ने इन्हें स्कूल में रखवाया है।

सीएम को दी मामले की जानकारी: खजानदास

विधायक खजानदास के मुताबिक उन्हें ये साइकिलें पिछले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले मिली थीं। इस बीच कर्मकार बोर्ड के मामले में जांच शुरू हो गई, फिर चुनाव आचार संहिता लगने से साइकिलें नहीं बंट पाईं। विधायक के मुताबिक उन्होंने बोर्ड से यह सामान वापस ले जाने के लिए भी कहा था। साथ ही मुख्यमंत्री को भी इसकी जानकारी दी थी, ताकि श्रमिकों तक सामान पहुंचाया जा सके। जल्द साइकिल श्रमिकों को दी जाएंगी।

सामान खराब होने का अंदेशा

साइकिल, सिलाई मशीन और कंबलों को रखे दो साल से अधिक समय हो गया है। जिन कमरों में इन्हें रखा गया है, उनकी स्थिति भी ठीक नहीं है। ऐसे हालात में सामान श्रमिकों को मिला तो इनके ज्यादा लंबे समय तक चलने की संभावनाएं भी ज्यादा नहीं हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें