ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडटैक्सी-प्राइवेट कार से चारधाम यात्रा पर जाने से पहले सावधान, गाड़ियों में लग रही आग; ये हैं कारण

टैक्सी-प्राइवेट कार से चारधाम यात्रा पर जाने से पहले सावधान, गाड़ियों में लग रही आग; ये हैं कारण

विशेषज्ञों के अनुसार, कार को धूप के बजाय छाया में खड़ी करें। लंबी दूरी की यात्रा रुक-रुक करें, इस तरह उपाय अपनाकर भी आग के खतरे को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। कार में आग लगने की घटना हुई है।

टैक्सी-प्राइवेट कार से चारधाम यात्रा पर जाने से पहले सावधान, गाड़ियों में लग रही आग; ये हैं कारण
be careful before going on chardham yatra by taxi private car vehicles catching fire
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानWed, 12 Jun 2024 12:42 PM
ऐप पर पढ़ें

अगर आप चारधाम यात्रा पर जाने का प्लान बना रहे हैं तो आपको सावधान हो जाना चाहिए। आपकी थोड़ी सी लापरवाही से आपकी जान भी जा सकती है। जी हां चौंकिए मत, भीषण गर्मी के बीच कारों में आग की घटनाएं सामने आ रहीं हैं। ऐसे में यात्रा के दौरान के गाड़ियों की सेहत का ख्याल रखना बहुत ही जरूरी है।

उत्तराखंड के कई शहरों में तापमान 42 डिग्री के पार पहुंच चुका है। ऐसे में लंबी दूरी तक लगातार ट्रेवल करना खतरनाक साबित हो सकता है। गाड़ियों के गर्म होने की वजह से कार में आग लग रही है। विदित हो कि उत्तराखंड चारधाम यात्रा के शुभांरभ होने के साथ ही एमपी, यूपी, राजस्थान समेत अन्य राज्यों से तीर्थ यात्री भारी संख्या में दर्शन करने को आ रहे हैं।

बदरीनाथ, यमुनोत्री समेत गंगोत्री चारों धामों में से सबसे ज्यादा केदारनाथ धाम को दर्शन के लिए लिए भक्तजन पहुंच रहे हैं। भीषण गर्मी में खुद की तरह अपनी कार का भी ख्याल रखना जरूरी है। दरअसल, गर्मी में कारों में आग की घटनाएं सामने आ रही हैं। मंगलवार को देहरादून में भी एक कार में आग लगी।

हालांकि आग लगने के कारण स्पष्ट नहीं हुए। विशेषज्ञों के अनुसार, कार को धूप के बजाय छाया में खड़ी करें। लंबी दूरी की यात्रा रुक-रुक करें, इस तरह उपाय अपनाकर भी आग के खतरे को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। नियमित सर्विस और सतर्कता भी जरूरी है।

डीडी मोटर्स के जीएम सर्विस एनएस नेगी ने बताया कि आमतौर पर शॉर्ट सर्किट या वायरिंग की दिक्कत को कार में आग का मुख्य कारण माना जाता है। लेकिन असल में इसके दूसरे कारण भी होते हैं। समय पर सर्विस नहीं कराना, बैटरी में फॉल्ट आदि भी वजहें भी हो सकती हैं।

कई बार लंबी दूरी तक लगातार वाहन चलाने, सड़क पर घर्षण से टायर गर्म होने से भी आग का खतरा रहता है। उन्होंने बताया कि वाहनों पर कंपनी के अलावा बाहर से अन्य सामग्री का प्रयोग भी खतरनाक है।

बिजनौर के पर्यटकों की चलती कार में आग लगी 
हरिद्वार रोड पर मंगलवार दोपहर बिजनौर से घूमने आए पर्यटकों की कार पर आग लग गई। गनीमत रही कि कार में बैठे लोगों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया। आग लगने के कारण स्पष्ट नहीं हो पाए हैं। नेहरू कॉलोनी थानाध्यक्ष मोहन सिंह ने बताया कि पूर्वाह्न करीब 11 बजे कार हरिद्वार से दून आ रही थी।

जैसे ही कार विधानसभा तिराहे के पास पहुंची, अचानक आग लग गई। कार में बैठे लोग इससे पहले कुछ समझ पाते आग कार के अंदर तक पहुंच गई। पुलिसकर्मियों ने अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला और सूचना फायर ब्रिगेड को दी।

मौके पर पहुंचे दमकल कर्मियों ने आधा घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। कार सवार लोग सहस्त्रत्त्धारा जा रहे थे। इधर, थानाध्यक्ष मोहन सिंह ने बताया कि आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है।

कार में आग लगने के संभावित कारण
-शॉर्ट सर्किट, ऑयल या गैस का लीक होना।
-कारों में प्रेशर हॉर्न, अधिक बोल्ट के एलईडी का प्रयोग।
-पेट्रोल, डीजल या सीएनजी कारों में इंजन का अधिक गर्म होना।
-पुरानी कार या कार का खराब तरीके से रखरखाव।
-कार में सिगरेट पीना, माचिस या फिर लाइटर रखना।
-कार की वायरिंग ढीली होना।
-पेट्रोल वाहनों में बाहर से सस्ती सीएनजी किट लगाना।
-आग लगने की स्थिति में क्या करें
-कार का इंजन बंद करें और इससे बाहर निकल जाएं।
-कार के अंदर किसी भी प्रकार की जलने की गंध आ रही है तो कार को सड़क किनारे खड़ा कर दें।
-यदि कार का दरवाजा जाम हो जाए तो इसके शीशे को तोड़कर बाहर आने का प्रयास करें।
-आग लगने की स्थिति में बोनट खोलने की गलती न करें।
-कार से बाहर आने के बाद ही आग बुझाने का प्रयास करें।
-जितनी जल्दी हो, पुलिस या फायर ब्रिगेड को कॉल करें।

इन उपायों को अपना सकते हैं कार मालिक
-कार की नियमित रूप से सर्विस और जांच कराएं।
-लंबी दूरी की यात्रा में रुक-रुककर वाहन की जांच करें।
-धूप के बजाय कार को छाया में ही खड़ा करें।
-धूप में खड़ी कार को कुछ देर रुककर स्टार्ट करें।
-कार के एसी की भी नियमित रूप से जांच कराएं।