DA Image
30 जून, 2020|10:31|IST

अगली स्टोरी

चारधाम: यात्रा को लेकर प्रशासन ने की तैयारियां पूरी, सुबह 7 बजे से होंगे दर्शन शुरू VIDEO

प्रदेश में एक जुलाई से श्री बदरीनाथ धाम की यात्रा शुरू होने जा रही है जिसे लेकर प्रशासन ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। पहली बार चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सानिध्य में शुरू होने जा रही यात्रा को लेकर लोगों में खासा उत्साह है।

दर्शन के लिए मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए मंदिर परिसर, आश्था पथ के अतिरिक्त गर्भ गृह में सोशियल डिस्टेंसिंग के लिए गोले बनाने का कार्य पूरा हो चुका है।

तो वहीं नगर पांचायत बदरीनाथ एक बार फिर से बदरीनाथ मंदिर परिसर को सैनेटाईज करने में जुट गई है। देवस्थान बोर्ड के निर्देश के बाद एक जलाई से शुरू हो रही यात्रा में फिलहाल मात्र उत्तराखंड के लोग ही दर्शन के लिए आयेंगे।

उपजिलाधिकारी जोशीमठ एके चनियाल ने बताया कि प्रतिदिन मात्र 1200 लोगों को ही बदरीनाथ दर्शन हेतु जाने दिया जायेगा व बहुत आवश्यक होने पर ही कोई तीर्थ यात्री बदरीनाथ में ठहरने की अनुमति दी जायेगी।

बताया कि बदरीनाथ दर्शन के लिए आने वाले लोगों को देवस्थान बोर्ड की दी गई बैबसाईट में पंजीकरण करना आवश्यक है लेकिन क्योंकि अभी फिलहाल यह बैबसाईट काम नही कर रही है।

इस लिए प्रशासन लामबगड में एक दस दस्यीय टीम की तैनाती कर रहा है जो कि यहां से गुजरने वाले सभी यात्रियों का पंजीकरण करेंगे। 

 


सुबह सात से सांय सात तक होंगे दर्शन
बदरीनाथ मंदिर के धर्माधिकारी भुवन उनियाल ने बताया कि बदरीनाथ जी के दर्शन प्रातः सात से दोपहर बारह बजे तक व उसके बाद दोपहर तीन से सांय सात बजे तक ही होंगे।


विधायक ने कहा जिलेवार हो यात्रा
बदरीनाथ विधानसभा से विधायक एवं देवस्थानम बोर्ड के सदस्य महेन्द्र भट्ट ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री से फोन में वार्ता कर पहले उन्हीं जिलों के लोगों को चारधामों में दर्शन के लिए जाने देने की मांग की जिन जिलों में मंदिर स्थित है।
विधायक ने कहा कि उन्होंने सीएम से चरणबद्ध तरीके से यात्रा शुरू करने की मांग की है ताकि यात्रा व्यवस्थाओं को कायम करने का समय मिल सके व किसी को परेशानी न हो
 

ब्रहम कपाल तीर्थ पुरोहितों में नाराजगी
ब्रहम कपाल तीर्थ पुरोहितों ने उपजिलाधिकारी कार्यालय के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन देकर कोरोना संक्रमण जब तक कम नही हो जाता है तब तक श्री बदरीनाथ की यात्रा में बाहरी लोगों को नही आने देने की अपील की है।

अपने भेजे ज्ञापन में पुरोहितों ने कहा है कि श्री बदरीनाथ जी की नित्य पूजा वैदिक परंपरानुसार हो रही है जिस कारण से धार्मिक परंपराओं के साथ कोई छेड छाड नही हो रहा है।

कहा कि यदि सरकार या बोर्ड यात्रा शुरू करता है तो इससे सीमान्त नगर जोशीमठ, यात्रा मार्ग से जुडे गांवों , बदरीनाथ, बामणी व माणा में संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा जो ठीक नही है।

मांग की कि जब तक कोरोना संक्रमण का ग्राफ नीचे न आ जाय यात्रा शुरू न की जाय। ज्ञापन देने वालों में अध्यक्ष उमानन्द सती, मदन कोठियाल, नवनीत सती, अमित सती, दिनदयाल कोठियाल, संजय सती आदि मौजूद रहे।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:badrinath shrine would be opened on july 01 as char dham approves amid corona virus pandemic in uttarakhand