ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडबदरीनाथ में पांच-मंगलौर विधानसभा सीट उपचुनाव में सात दावेदार, BJP-कांग्रेस के यह उम्मीदवार

बदरीनाथ में पांच-मंगलौर विधानसभा सीट उपचुनाव में सात दावेदार, BJP-कांग्रेस के यह उम्मीदवार

उप चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन का आज अंतिम दिन था। बदरीनाथ में भाजपा के राजेंद्र भंडारी, कांग्रेस के लखपत सिंह बुटोला समेत पांच प्रत्याशी मैदान में है। हर प्रत्याशी जीत का दावा कर रहा।

बदरीनाथ में पांच-मंगलौर विधानसभा सीट उपचुनाव में सात दावेदार, BJP-कांग्रेस के यह उम्मीदवार
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानSat, 22 Jun 2024 10:58 AM
ऐप पर पढ़ें

बदरीनाथ और मंगलौर उपचुनाव को लेकर सियासी पारा चढ़ने लगा है।  विधानसभा उप चुनाव के लिए बदरीनाथ से पांच जबकि मंगलौर से सात प्रत्याशियों ने नामांकन दाखिल किया है। सोमवार को नामांकन पत्रों की जाएगी।

उप चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन का आज अंतिम दिन था। बदरीनाथ में भाजपा के राजेंद्र भंडारी, कांग्रेस के लखपत सिंह बुटोला समेत पांच प्रत्याशी मैदान में है, वहीं मंगलौर में कांग्रेस के काजी निजामुद्दीन, भाजपा के करतार सिंह भड़ाना, बसपा के उबैदुर रहमान समेत सात दावेदार मैदान है।

निर्वाचन आयोग ने 26 जून को अपराह्न तीन बजे तक नाम वापसी की अंतिम तिथि तय की है। उप चुनाव के लिए 10 जुलाई को मतदान जबकि 13 जुलाई को मतगणना होगा।

विधानसभा सीट     बीजेपी             कांग्रेस
बदरीनाथ            राजेंद्र सिंह भंडारी    लखपत बुटोला
मंगलौर            करतार सिंह        काजी निजामुद्दीन

उप चुनाव को लेकर कांग्रेस का दावा सपना जैसा:भट्ट
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने शुक्रवार को बलवीर रोड स्थित पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि उप चुनाव को लेकर कांग्रेस का दावा सिर्फ सपना जैसा है। भट्ट ने दावा किया कि मंगलौर और बदरीनाथ दोनों सीटों पर भाजपा की जीत तय है।

भट्ट ने कहा कि भाजपा का चुनावों में जीत का सिलसिला उपचुनाव में भी जारी रहने वाला है। डबल इंजन सरकार की उपलब्धियों के आधार पर विगत सभी तीनों लोकसभा और दो विधानसभा चुनावों में पार्टी ने जीत हासिल की है।

मंगलौर और बदरीनाथ क्षेत्र की जनता का स्थानीय विकास के कामों को चुनाव में महत्व दिया जाना तय है।
उन्होंने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि उन्हें चुनाव परिणामों के बजाय राष्ट्र और सनातन विरोधी नीति की समीक्षा करने की जरूरत है।

आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता सार्वजनिक रूप से सनातन विरोधी बयानबाजी के लिए जाने जाते हैं। लिहाजा उत्तराखंड की देशभक्त और रामभक्त जनता का इन्हें सबक सिखाना निश्चित है। कहा कि कांग्रेस के नेता जनता से पूरी तरह कटे हुए हैं और सिर्फ मीडिया में बने रहने के लिए समीक्षा और तैयारियों की बात करते हैं।


 

Advertisement