ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडप्राइवेट स्कूलों की मनमानी अब नहीं होगी आसान, एडमिशन में किया यह काम तो ऐक्शन

प्राइवेट स्कूलों की मनमानी अब नहीं होगी आसान, एडमिशन में किया यह काम तो ऐक्शन

हरिद्वार की प्रकार लीगल सर्विस के अधिवक्ता रमेश कुमार प्रजापति ने इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग और शिक्षा विभाग को पत्र भेजते हुए कार्रवाई की मांग की है। नियमानुसार कोई भी स्कूल इतर फीस नहीं ले सकता।

प्राइवेट स्कूलों की मनमानी अब नहीं होगी आसान, एडमिशन में किया यह काम तो ऐक्शन
Himanshu Kumar Lallदेहरादून। चंद्रशेखर बुड़ाकोटीSun, 23 Jun 2024 10:32 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड में एडमिशन के लिए कैपिटेशन फीस वसूलने वाले प्राइवेट स्कूलों की मान्यता रद्द की जाएगी। स्कूलों में अतिरिक्त पैसा वसूले जाने की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए डीजी-शिक्षा बंशीधर तिवारी ने सभी एडी,सीईओ और डीईओ को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

कैपिटेशन फीस के बाबत अभिभावकों की प्रत्येक शिकायत को प्राथमिकता से लेते हुए उसकी जांच करनी होगी और ऐसे स्कूलों की मान्यता को रद्द करने की कार्रवाई भी की जाएगी। सूत्रों के अनुसार कुछ अभिभावकों ने स्कूलों पर जबरन फीस से इतर पैसा वसूलने का आरोप लगाया है।

हरिद्वार की प्रकार लीगल सर्विस के अधिवक्ता रमेश कुमार प्रजापति ने इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग और शिक्षा विभाग को पत्र भेजते हुए कार्रवाई की मांग की है। नियमानुसार कोई भी स्कूल तय फीस से इतर फीस नहीं ले सकता है।

स्कूल को उसकी फीस के बाबत अभिभावक को भी रसीद देनी होती है। पर देखा जा रहा है कि कुछ स्कूल संचालक फीस के अलावा भी काफी पैसा वसूल रहे हैं। यह पैसा एडमिशन के वक्त कैपिटेशन फीस के नाम पर होता है।

मालूम हो कि राज्य में प्राइवेट स्कूलों की संख्या 44 सौ से भी ज्यादा है। इनमें नामी स्कूलों में एडमिशन के लिए मारामारी रहती है। अभिभावकों की एडमिशन की होड़ को देखते हुए स्कूल संचालकों को अतिरिक्त फीस वसूलने का मौका मिल जाता है।

यदि स्कूल एडमिशन के वक्त फीस से इतर कैपिटेशन फीस का दबाव बना रहे हों तो अभिभावक तत्काल जिले के सीईओ और डीईओ कार्यालय में शिकायत दर्ज कराएं। शिकायतों की गंभीरता से जांच की जाएगी। जांच में आरोपी पाए जाने वाले स्कूलों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। सभी अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं कि इस प्रकार की शिकायतों को प्राथमिकता के साथ लिया जाए।
बंशीधर तिवारी, डीजी-शिक्षा