ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडअमृतपाल सिंह की तलाश में पुलिस को लगा झटका, नेपाल बॉर्डर पर सेटेलाइट फोन के इस्तेमाल से मचा हड़कंप

अमृतपाल सिंह की तलाश में पुलिस को लगा झटका, नेपाल बॉर्डर पर सेटेलाइट फोन के इस्तेमाल से मचा हड़कंप

पंजाब से फरार खालिस्तान समर्थक, और ‘वारिस पंजाब दे’ का प्रमुख अमृतपाल सिंह के नेपाल आवाजाही करने की आशंका के बीच उत्तराखंड नेपाल बॉर्डर पर पुलिस अधिकारियों, और खूफिया विभाग में हड़कंप मच गया।

अमृतपाल सिंह की तलाश में पुलिस को लगा झटका, नेपाल बॉर्डर पर सेटेलाइट फोन के इस्तेमाल से मचा हड़कंप
amritpal
Himanshu Kumar Lallपिथौरागढ़, संवाददाताMon, 27 Mar 2023 05:46 PM
ऐप पर पढ़ें

पंजाब से फरार खालिस्तान समर्थक, और ‘वारिस पंजाब दे’ का प्रमुख अमृतपाल सिंह के नेपाल आवाजाही करने की आशंका के बीच उत्तराखंड नेपाल बॉर्डर पर पुलिस अधिकारियों, और खूफिया विभाग में हड़कंप मच गया। बॉर्डर पर पहले से ज्यादा सख्ती करते हुए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया।

उत्तराखंड से नेपाल जाने वाले लोगों की आईडी चेक की जा रही है। यूपी और हिमाचल प्रदेश बॉर्डर पर गाड़ियों की सघन चेकिंग की जा रही है। उत्तराखंड बॉर्डर पर बसे सीमांत में सेटेलाइट फोन का इस्तेमाल होने का मामला सामने आया है। जिला मुख्यालय के नजदीक चंडाक ढूंगा गांव से सेटेलाइट फोन के सिग्नल मिले हैं।

जिसके बाद पुलिस के साथ ही खुफिया एजेंसियां भी अलर्ट हो गई हैं। नेपाल बॉर्डर पर गाड़ियों की ढंग जांच करने के बाद ही छोड़ा जा रहा है। पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय से करीब 13 किमी दूर ढूंगा गांव में बीती 24 मार्च, शुक्रवार को सेटेलाइट फोन का इस्तेमाल होने की सूचना पुलिस को मिली थी।

यह भी पढ़े:मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को खालिस्तान के समर्थन में धमकी, G-20 बैठक से पहले भी रिकॉर्डेड कॉल से दिया यह संदेश

जांच में  क्षेत्र से सेटेलाइट फोन के सिग्नल मिलने की पुष्टि हुई,  जिसके बाद पुलिस ने क्षेत्र का का निरीक्षण भी किया। लेकिन सेटेलाइट फोन का इस्तेमाल किसने किया, इसका सुराग अब तक नहीं लग सका है। इधर, भारत-नेपाल सीमा पर जिला मुख्यालय के नजदीक सेटेलाइट फोन के इस्तेमाल से तरह-तरह की चर्चाएं हैं।

लोग इसे फरार चल रहे खालिस्तान समर्थक अमृतपाल से भी जोड़कर देख रहे हैं। पुलिस सूत्र  भी अमृतपाल  के सेटलाइट फोन वाले एंगल से इंकार नहीं कर रहे। बता दें, कि वर्ष 2018 में चीन सीमा पर मिलम से मलारी के बीच सेटेलाइट फोन के सिग्नल मिल चुके हैं। एसपी पिथौरागढ़, लोकेश्वर सिंह ने बताया कि पिथौरागढ़ के ढूंगा गांव में सेटेलाइट फोन के सिग्नल मिले हैं।

यह भी पढ़ें:अमृतपाल सिंह जंगल के रास्ते नेपाल तो नहीं पहुंच गया? सोशल मीडिया फेसबुक से भी भागे समर्थक

इस संबंध में सभी पहलुओं को  ध्यान में रखकर जांच की जा रही है। बताय कि पुलिस की कई टीमें बनाईं गईं हैं। मामले की बहुत ही गहनात से जांच की जा रही है। एस सिंह ने बताया कि भारत-नेपल बॉर्डर पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। गाड़ियों की चेंकिग करने के साथ ही हर आने-जाने व्यक्ति की आईडी भी चेक की जा रही है।

हिमाचल-यूपी की सीमा पर नाकेबंदी
खालिस्तान समर्थक व वारिस पंजाब दे संगठन के संचालक अमृतपाल सिंह को लेकर विकासनगर व सहसपुर पुलिस लगातार चौकन्नी है। हिमाचल की सीमा से लगे कुल्हाल बैरियर व यूपी की सीमा से लगे दर्रारीट बैरियर पर पुलिस लगातार चेकिंग अभियान चलाये हुए है। गुरुवार दोपहर से पुलिस हिमाचल की सीमा से लगे कुल्हाल बैरियर व यूपी की सीमा से लगे दर्रारीट बैरियर, डाकपत्थर बैराज पुल पर चौबीस घंटे वाहनों की सघन चेकिंग अभियान चलाये हुए है।

यह भी पढ़ें:अमृतपाल सिंह महिला की मदद से फरार...विदेश भागने के टिप पर बॉर्डर पर एक्शन प्लान

भारत-नेपाल की फोर्स बॉर्डर पर कर रही गश्त
खालिस्तान समर्थक अमृतपाल की तलाश में सीमा पर गहन चेकिंग जारी है। उसकी तलाश में भारत और नेपाल की संयुक्त फोर्स ने वन महोलिया से सेमलघाट तक 15 किलोमीटर पैदल गश्त की। इस दौरान एसएसबी की तीन कंपनियां, पुलिस और खुफिया विभाग के लोग शामिल रहे।

सीमा से सटे नगरा तराई, वन महोलिया सहित कई गांवों में एसएसबी ने कांबिंग की। इस दौरान दोनों देशों के नागरिकों से सीमा पर पूछताछ की गई। सिसैया गांव में बैरियर लगाकर प्रतिदिन आवाजाही करने वाले लोगों से पूछताछ की जा रही है। एसओ झनकइया रविन्द्र बिष्ट ने बताया कि शारदा बैराज से लेकर बॉर्डर पर सेमलघाट, वन महोलिया तक पड़ने वाले गांवों में अमृतपाल के पोस्टर लगाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें:भगोड़े अमृतपाल सिंह के लिए NIA ने उत्तराखंड में की छापेमारी! UP बॉर्डर पर अलर्ट के बाद पुलिस का बयान

लोगों की आईडी चेक की जा रही है। लोगों को अमृतपाल और उसके भगोड़े साथियों के अपराधों व भागने के विषय की जानकारी दी जा रही है। बताया कि भारत से नेपाल जाने वाली सभी गाड़ियों की गहनता से जांच की जा रही है। बॉर्डर पर रात के समय अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था की गई है, ताकि भगोड़ा अमृतपाल भागने में सफल न हो सके।