अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आदि कैलास यात्रा पर पड़ी मौसम की मार, बीच में ही हुई रद्द

आदि कैलाश यात्रा रद्द

केएमवीएन की ओर से संचालित आदि कैलास यात्रा को इस बार बीच में ही रद्द कर दिया गया है। यात्रा को रोकने के निर्णय यात्रा मार्ग में खराब मौसम को देखते हुए लिया गया है। इस साल अभी तक 7 दलों के 190 यात्री ही आदि कैलास की यात्रा पूरी कर सके। यात्रा के लिए 21 दलों में कुल 450 श्रद्धालुओं ने पंजीकरण कराया था। यात्रा के रद्द होने से निगम को लाखों रुपये का नुकसान होना तय है। वित्तीय कारणों के चलते कैलास-मानसरोवर यात्रा की तर्ज पर इस यात्रा के यात्रियों को एयरलिफ्ट करना संभव नहीं था। ऐसे में यात्रा को रद्द करना पड़ा। 

बता दें कि वर्ष 1994 में कुमविनि ने यह यात्रा शुरू की। पहले वर्ष 3 दलों में 69 यात्रियों ने उक्त यात्रा की। इसके बाद से यात्री दलों की संख्या बढ़ती गई और इस वर्ष 21 दलों में 450 श्रद्धालुओं ने यात्रा के लिए पंजीकरण कराया था। सभी यात्रियों ने इसके लिए आरक्षण शुल्क भी जमा कर दिया था। पिछले 24 वर्षों में कुल 168 दलों में कुल 3744 श्रद्धालुओं ने आदि कैलास की यात्रा की। इनमें इस वर्ष के 190 यात्री भी शामिल हैं।

यह है यात्रा रूट

दिल्ली, काठगोदाम, अल्मोड़ा, पाताल भुवनेश्वर, धारचूला, बूंदी, गुंजी, कुट्टी, जालिंगकांग तथा फिर आदि कैलास। इसके बाद वापसी में कुट्टी, कालापानी, नाभीढांग, गुंजी, बूंदी, मांगती, जागेश्वर, काठगोदाम फिर दिल्ली।

लाखों का नुकसान

उक्त यात्रा का अधिकतम यात्रा मार्ग प्रसिद्ध कैलास-मानसरोवर मार्ग से जुड़ता हुआ है। यहां स्थित पड़ावों में पूर्व से ही निगम का स्टाफ, रहन-सहन की व्यवस्थाएं होती हैं। निगम की ओर से कैलास-मानसरोवर यात्रा के रूट चार्ट के अनुरूप आदि कैलास का रूट चार्ट बनाया जाता है। ऐसे में खाली दिनों में निगम की व्यवस्थाओं और स्टाफ का सदुपयोग कर निगम लाखों रुपये बचा लेता है। केएमवीएन के महाप्रबंधक टीएस मर्तोलिया का कहना है कि आदि कैलास यात्रा केएमवीएन की आय का बढ़ा जरिया है। इस वर्ष यात्रा के रद हो जाने से निगम को नुकसान होगा।

प्रति यात्री 36 हजार रुपये है यात्रा शुल्क

आदि कैलास का प्रति व्यक्ति किराया लगभग 36 हजार रुपये है। ऐसे में निगम यदि पंजीकृत 450 लोगों को निगम यात्रा पाता तो उसे 1.62 करोड़ रुपये की आय होती। हालांकि 190 श्रद्धालुओं ने यात्रा की जबकि 260 यात्रियों को मायूस होना पड़ा। उक्त धनराशि भी 93.6 लाख होती है। निगम सूत्र बताते हैं कि निगम स्टाफ और व्यवस्थाओं का सदुपयोग कर निगम लगभग 50 फीसदी से अधिक राशि की बचत कर लेता है। ऐसे में इसी वर्ष उसे लगभग 50 लाख रुपये का नुकसान होगा।

UP, उत्तराखंड, बिहार समेत इन 16 राज्यों में मूसलाधार बारिश की चेतावनी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:adi kailash yatra canceled due to bad weather