DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिंताजनक: ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट में हर रोज फेल होते हैं 40 से 50 अभ्यर्थी, एक हफ्ते बाद मिलेगा एक और मौका

लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट में फेल होने पर अब दोबारा टेस्ट देने के लिए एक हफ्ते का इंतजार करना पड़ेगा। पहले 24 घंटे में दोबारा टेस्ट के लिए आवेदन की सुविधा थी, अब इसके लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना पड़ेगा। तीन बार फेल होने पर दो माह बाद नए सिरे से आवेदन करना होगा। आरटीओ में ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया पूरी तरह ऑनलाइन हो गई है। लर्निंग लाइसेंस का आवेदन करने के बाद आरटीओ दफ्तर में बेवसाइट में अपलोड पहचान पत्र और जन्म प्रमाण पत्र की स्क्रीनिंग करानी होती है। बायोमैट्रिक के बाद ऑनलाइन टेस्ट होता है। यातायात नियमों की जानकारी पर आधारित इस टेस्ट में पास होने के लिए 60 फीसदी प्रश्न सही करने जरूरी हैं। यानि 15 में से 9 प्रश्न सही होने चाहिए। टेस्ट का समय पूरा होते ही कंप्यूटर स्क्रीन पर पास और फेल की जानकारी मिल जाती है। पहले इस टेस्ट में फेल होने पर 50 रुपये जमा कर 24 घंटे बाद दोबारा टेस्ट देने की सुविधा थी, लेकिन अब इसमें बदलाव हो गया है। दोबारा टेस्ट देने के लिए अब एक सप्ताह का इंतजार करना होगा। टेस्ट के तीन मौके मिलते हैं। तीन बार फेल होने पर दो माह बाद नए सिरे से आवेदन करना होता है। इसमें पूरी फीस जमा करवानी होती है। 

हर रोज फेल होते हैं 40 से 50 अभ्यर्थी 
देहरादून। आरटीओ ऑफिस में लर्निंग लाइसेंस के लिए हर रोज करीब 120 टेस्ट होते हैं। इसमें करीब 50 फीसदी अभ्यर्थी फेल हो जाते हैं। कई अभ्यर्थी ऐसे होते हैं, जो पांच-छह बार भी टेस्ट पास नहीं कर पाते। 


लर्निंग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया अब तक पूरी तरह ऑनलाइन हो चुकी है। अब फेल होने पर एक सप्ताह दोबारा टेस्ट देने का मौका मिलेगा। तय समय से पहले अभ्यर्थी आवेदन नहीं कर सकता। ऑनलाइन बेवसाइट आवेदन को स्वीकार नहीं करेगी। 
अरविंद पांडेय, एआरटीओ 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:40 to 50 applicants fail to pass learning driving license tests