ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडचारधाम यात्रा में अबतक 39 तीर्थयात्रियों की मौत,सरकार ने श्रद्धालुओं को दी ये सलाह

चारधाम यात्रा में अबतक 39 तीर्थयात्रियों की मौत,सरकार ने श्रद्धालुओं को दी ये सलाह

चारधाम यात्रा में अब तक स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों और अन्य कारणों की वजह से 39 तीर्थयात्रियों की मौत हो चुकी है। पिछले साल यात्रा के दौरान कुल 245 श्रद्धालुओं की जान गई थी।

चारधाम यात्रा में अबतक 39 तीर्थयात्रियों की मौत,सरकार ने श्रद्धालुओं को दी ये सलाह
Sourabh Jainहिन्दुस्तान टाइम्स,मसूरीTue, 21 May 2024 09:05 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड सरकार की तरफ से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार चारधाम यात्रा में इस साल अबतक 39 यात्रियों की मौत हुई है। इन 39 मौतों में से सबसे ज्यादा मौतें केदारनाथ धाम में हुई हैं जहां अब तक 18 लोगों की जान जा चुकी है, इसके बाद यमुनोत्री धाम में 12 मौतें, बद्रीनाथ धाम में 7 मौतें और गंगोत्री धाम में दो मौतें हुई हैं। खराब स्वास्थ्य से हो रही मौतों के बाद सरकार तीर्थयात्रियों की हेल्थ स्क्रीनिंग पर फोकस कर रही है, साथ ही उसने उचित अनुकूलन अवधि के बाद ही लोगों को यात्रा का विकल्प चुनने की सलाह दी है।

सोमवार शाम तक सवा सात लाख से ज्यादा तीर्थयात्री चार धामों में पहुंच चुके हैं, जिनमें केदारनाथ के लिए 3,19,193, यमुनोत्री के लिए 1,38,537, बद्रीनाथ के लिए 1,39,656 और गंगोत्री के लिए 1,25,777 यात्री शामिल हैं। उधर चार धाम की यात्रा में आने वाले तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए सरकार द्वारा हर तरह की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। इसके लिए राज्य सरकार ने अधिकारियों को कड़े निर्देश दे रखे हैं। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखने के लिए कहा गया है कि उनसे सामान की ज्यादा कीमत ना वसूली जाए। 

पिछले साल हुई थी कुल 245 मौतें

पिछले साल चार धाम यात्रा के दौरान 245 तीर्थयात्रियों की मौत हुई थी। इनमें से सबसे ज्यादा 120 मौतें केदारनाथ धाम के रास्ते में हुई थीं। बद्रीनाथ धाम रूट पर 46, गंगोत्री धाम रूट पर 30 और यमुनोत्री धाम रूट पर 39 मौतें हुई थीं। साथ ही हेमकुंड साहिब मार्ग पर भी नौ यात्रियों की जान गई थी।

स्वास्थ्य सचिव ने श्रद्धालुओं के लिए उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए

उत्तराखंड सरकार के स्वास्थ्य सचिव आर. राजेश कुमार फिलहाल रुद्रप्रयाग के तीन दिवसीय दौरे पर हैं, उन्होंने मंगलवार को अपने दौरे के दूसरे दिन केदारनाथ मार्ग पर स्वास्थ्य और अन्य यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने अधिकारियों को तीर्थयात्रियों को सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया, 'राज्य सरकार का उद्देश्य चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को सभी बुनियादी सुविधाएं प्रदान करना है ताकि वे परेशानी मुक्त और सुविधाजनक यात्रा कर सकें साथ ही वे अपने साथ उत्तराखंड का सुखद अनुभव लेकर जाएं।' 

50 साल से ज्यादा उम्र वालों की स्वास्थ्य जांच पर विशेष फोकस

कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों को प्राथमिकता के आधार पर तीर्थयात्रियों की चिकित्सा जांच करने का निर्देश दिया गया है। विभाग विशेष रूप से 50 वर्ष से अधिक की उम्र वाले श्रद्धालुओं की स्वास्थ्य जांच पर ध्यान केंद्रित कर रहा है और रोगियों को केदारनाथ की पैदल यात्रा से बचने की सलाह दे रहा है। उन्होंने कहा, 'तीर्थयात्रियों को उचित अनुकूलन अवधि के बाद ही यात्रा का विकल्प चुनने की सलाह दी गई है।'

सुनिश्चित करें की हर दुकान पर सामान की रेट लिस्ट लगी हुई हो

स्वास्थ्य सचिव ने यह भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि तीर्थयात्रियों को अधिक कीमत पर सामान न बेचा जाए, इसके लिए उन्होंने खाद्य सुरक्षा विभाग को निर्देश दिए कि वे यह देखें कि यात्रा मार्ग की प्रत्येक दुकान में रेट लिस्ट लगी हुई हो और तीर्थयात्रियों को मिलावटी खाना नहीं परोसा जाए। उन्होंने अधिकारियों को कड़ी निगरानी रखने और यह सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया कि केदारनाथ धाम में हेलीकॉप्टर सेवाओं का विकल्प चुनने वाले तीर्थयात्रियों के साथ कोई धोखाधड़ी न हो।

यह भी ध्यान रखें की जानवरों के साथ किसी तरह की क्रूरता ना हो

केदारनाथ यात्रा मार्ग पर चलने वाले खच्चरों और घोड़ों के प्रति अपनी चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने पशुपालन विभाग को भी यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि कोई भी संचालक जानवरों के खिलाफ क्रूर व्यवहार न करे। साथ ही कहा कि 'केदारनाथ यात्रा मार्ग पर किसी भी स्थिति में खच्चरों और घोड़ों को डबल चक्कर नहीं लगाना चाहिए और पूरे यात्रा मार्ग पर साफ-सफाई बनाए रखनी चाहिए।'

यात्रियों के सुझाव पर यात्रा मार्ग पेयजल की व्यवस्था करने के लिए कहा

स्वास्थ्य सचिव ने सोनप्रयाग के पास यात्रा मार्ग पर तीर्थयात्रियों से भी बातचीत की और तीर्थयात्रियों द्वारा दिए गए सुझावों को नोट किया। इस दौरान गुजरात के विद्यानगर से आईं तीर्थयात्री कुसुमबेन (35) ने बताया कि सोनप्रयाग में मेरी मेडिकल स्क्रीनिंग की गई और मेडिकल स्टाफ से हरी झंडी मिलने के बाद, मैं गौरी कुंड से केदारनाथ की पैदल यात्रा पर निकलूंगी।

उधर राजस्थान के बाड़मेर से आए हकीकत सिंह (50) ने कहा कि तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए पूरे यात्रा मार्ग पर वाटर एटीएम की व्यवस्था की जानी चाहिए। जिसके बाद स्वास्थ्य सचिव ने जल संस्थान विभाग के अधिकारियों को पूरे यात्रा मार्ग पर पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था करने का निर्देश दिया, साथ ही बिजली विभाग के अधिकारियों को केदारनाथ की बिजली लाइन में आने वाली किसी भी खराबी को ठीक करने का निर्देश दिया।