ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडकॉर्बेट पार्क में 38 साल बाद 26 नए ऑर्किड मिले, इन ऑर्किडों को खतरा

कॉर्बेट पार्क में 38 साल बाद 26 नए ऑर्किड मिले, इन ऑर्किडों को खतरा

दुनिया में बाघों के लिए सुर्खियां पाने वाला कॉर्बेट नेशनल पार्क भांति-भांति के ऑर्किड से भी सजा हुआ है। वन अनुसंधान केन्द्र की रिसर्च टीम ने कॉर्बेट के भीतर ऑर्किड की 26 नई प्रजातियों को ढूंढ निकाला।

कॉर्बेट पार्क में 38 साल बाद 26 नए ऑर्किड मिले, इन ऑर्किडों को खतरा
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी, हिन्दुस्तानSun, 24 Sep 2023 12:44 PM
ऐप पर पढ़ें

दुनिया में बाघों के लिए सुर्खियां पाने वाला कॉर्बेट नेशनल पार्क भांति-भांति के ऑर्किड से भी सजा हुआ है। वन अनुसंधान केन्द्र की रिसर्च टीम ने कॉर्बेट के भीतर ऑर्किड की 26 नई प्रजातियों को ढूंढ निकाला है। इससे पहले 1985 में हुए सर्वे में यहां पांच प्रजातियां मिली थीं, जिनकी संख्या अब 31 पहुंच गई है।

कॉर्बेट नेशनल पार्क में वन अनुसंधान केन्द्र की रिसर्च टीम के सदस्य मनोज सिंह, ज्योति प्रकाश जोशी, किरन बिष्ट, तनुजा पांडे ने 2020 से अगस्त 2023 सर्वेक्षण किया। इस दौरान टीम ने 26 नए ऑर्किड खोज निकाले। एक ऑर्किड यूलोफिया एक्सप्लानाटा 36 साल बाद पाया गया है।

टीम ने कॉर्बेट की सभी 12 रेंज कालागढ़, ढेला, मेदा वन, अधनला, मंदाल, सर्पदुली, बिजरानी, झिरना, ढिकाला, पलेन, सोना नदी और पाखरो में सर्वे किया है। ऑर्किड फूलों का पौधा होता है जो मुख्यत सजावट के काम आता है। लेकिन इसमें औषधीय गुण भी होते हैं।

इन ऑर्किड को है खतरा
उत्तराखंड जैव विविधता बोर्ड ने फियस टैंकरविलिया जिसे रेड केन ऑर्किड या नून ऑर्किड के साथ पेक्टेलिस गिगेंटीन जिसे बटरफ्लाई ऑर्किड भी कहा जाता है को संकटग्रस्त घोषित किया है। यूलोफिया फ्लेवा (येलो यूलोफिया), यूलोफिया एक्सप्लानाटा (फ्लैटेंड यूलोफिया), सिंबिडियम मैक्रोरिजोन (बड़ी जड़ सिंबिडियम) व एपिपोगियम रोजियम (रोजी घोस्ट ऑर्किड) को दुर्लभ प्रजातियों के रूप में चिन्हित किया है। यूलोफिया एक्सप्लानाटा को 36 साल के अंतराल के बाद खोजा है।

कॉर्बेट जैव विविधता से भरा हुआ है। रिसर्च टीम को जो ऑर्किड की प्रजातियां मिली हैं, इसमें से कुछ दुर्लभ श्रेणी में भी हैं। रिसर्च टीम के इस काम से भविष्य में बायो डायवर्सिटी को लेकर प्लान बनाने व रिसर्च संबंधी कामों में मदद मिलेगी।
संजीव चतुर्वेदी, मुख्य वन संरक्षक, वन अनुसंधान केन्द्र हल्द्वानी