DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  तीरथ सरकार के 100 दिन : कोरोना से बचाने को स्वास्थ्य सुविधाओं पर दिया जोर
उत्तराखंड

तीरथ सरकार के 100 दिन : कोरोना से बचाने को स्वास्थ्य सुविधाओं पर दिया जोर

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनPublished By: Shivendra Singh
Thu, 17 Jun 2021 08:20 PM
तीरथ सरकार के 100 दिन : कोरोना से बचाने को स्वास्थ्य सुविधाओं पर दिया जोर

उत्तराखंड की तीरथ सरकार के कार्यकाल के 100 दिन पूर्ण हो चुके हैं। इन 100 दिनों में सरकार के लिए कोविड संक्रमण से राज्य को मुक्त करना सबसे बड़ी चुनौती थी, जिसमें वे काफी हद तक सफल भी हुए। इन 100 दिनों में सीएम तीरथ सिंह ने कोविड महामारी के प्रभाव को कम करने तथा पीड़ितों को बेहतर इलाज एवं आवश्यक सहायता आदि व्यवस्थाओं की निरंतर निगरानी की। सीएम ने लगभग सभी जनपदों में स्थापित कोविड केयर सेन्टरों, अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों में स्वास्थ्य सुविधाओं और व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

उत्तराखंड सरकार ने अपने कार्यकाल के 100 दिनों में राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं में तेजी से वृद्धि की है। प्रदेश में कोविड संक्रमितों को बेड की कमी नहीं हो, इसके लिए डीआरडीओ के माध्यम से हल्द्वानी और ऋषिकेश में 500-500 बेड के कोविड केयर सेंटर तैयार किए गए। वहीं प्रदेश के अन्य अस्पतालों में भी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद की गईं। उत्तराखंड के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति लगातार सुनिश्चित करवाने के लिए जहां केंद्र सरकार द्वारा चलाई गई ऑक्सीजन एक्सप्रेस से राज्य सरकार ने ऑक्सीजन मंगवाई वहीं तीरथ सरकार ने प्रदेश के कई स्थानों पर ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना की।

गढ़वाल मंडल में 50 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन को रिजर्व में रखा गया है जबकि कुमाऊं मंडल में 40 मीट्रिक टन ऑक्सीजन को रिजर्व कोटे में रखा गया है। इसके अलावा 22 अस्पतालों के अंदर छोटे ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा चुके हैं। जबकि 15 नए स्थानों पर ऑक्सीजन प्लांट का प्रस्ताव तैयार हो गया है। हर जिला अस्पताल में ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाए जा रहे हैं।

 प्रदेश के सभी 13 जिलों को अलग-अलग स्थानों पर ऑक्सीजन सप्लाई हेतु फिलिंग प्वाइंट आवंटित कर दिए गए है जिसके जरिए रोजाना 167 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन और आपूर्ति राज्य में हो रही है। इसके अलावा भारत सरकार ने दूसरे राज्यों से 60 मीट्रिक टन आवंटित किया है। पिछले केवल एक माह में ही सभी जगह सुविधाएं दस गुना बढ़ गई हैं। जहां मार्च 2020 में ऑक्सीजन सपोर्ट बेड 673 थे, आज बढ़कर 6000, आईसीयू बेड 216 थे आज बढ़कर 1495, वेंटिलेटर 116 थे 983 ऑक्सीजन सिलेंडर 1193 थे आज 10000 से अधिक और कंसन्ट्रेटर 275 थे आज बढ़कर 3400 से अधिक हो चुके हैं।

तीरथ सरकार के कार्यकाल में अब तक ई-संजीवनी के तहत 26 हजार 900 टेली कम्युनिकेशन किए गए और इनकी संख्या लगातार बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। इसी प्रकार 104 हेल्पलाइन पर 1 लाख 10 हजार से अधिक कॉल्स अटेंड किए गए कोविड-19 की वेबसाइट के भी आज 9 लाख से अधिक विजिटर्स हैं। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए 18 से 45 वर्ष आयु वर्ग के सभी लोगों को निशुल्क टीका लगाया जा रहा है, जिनकी आबादी करीब 50 लाख है।

संबंधित खबरें