DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीनगर परियोजना प्रभावितों ने किया लोक सभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान

श्रीनगर परियोजना प्रभावितों ने किया लोक सभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान

श्रीनगर परियोजना प्रभावितों ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के बहिष्कार का ऐलान किया है। प्रभावितों ने कहा कि कई महीनों से 18 सूत्रीय मांगों के समाधान को लेकर आंदोलन व आमरण अनशन कर रहे प्रभावितों की सुध नहीं ली जा रही है। जिसके कारण उन्हें लोक सभा चुनाव का बहिष्कार करने का निर्णय लेने के लिए विवश होना पड़ा है। उन्होंने विधायक व सांसद पर स्थानीय लोगों के हक-हकूकों के बजाय कंपनी का साथ देने का आरोप लगाया। एसडीएम कीर्तिनगर के माध्यम से मुख्य निर्वाचन आयुक्त नई दिल्ली को करीब 200 लोगों द्वारा भेजे गए हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन में कहा गया है कि जनपद पौड़ी एवं टिहरी के करीब 25 ग्राम सभाओं की 476 परिवारों के लोग श्रीनगर जल विद्युत परियोजना से बुरी तरह से प्रभावित हैं। बांध निर्माणदायी कंपनी द्वारा उनकी जायज 18 सूत्रीय मांगों पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। जिन विधायकों व सांसदों को स्थानीय जनता ने चुन कर भेजा है वह उनकी सुध नहीं ले रहे हैं। कहा आने वाले लोक सभा चुनाव में प्रभावितों ने अपने मत का प्रयोग न करने का फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन व सरकार में बैठे जनप्रतिनिधियों की इस उपेक्षा के चलते अन्य लोगों से भी मतदान में भाग न लेने की अपील की जाएगी। ज्ञापन में उत्तराखंड संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच की महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष सुनीता पांडेय, अमरा देवी, वीरा देवी, कलावती देवी, रमा देवी, प्रमिला, दिवाकर नंद घिल्डियाल, जनार्दन गोदियाल, सतीश चंद्र थपलियाल सहित कई लोगों के हस्ताक्षर हैं। दौलत कुंवर के वजन में आठ किग्रा की गिरावटकीर्तिनगर। श्रीनगर परियोजना के प्रभावितों की 18 सूत्रीय मांगों के समाधान को लेकर कीर्तिनगर रामलीला मैदान में 29 दिनों से आमरण अनशन कर रहे उत्तराखंड संवैधानिक अधिकार संरक्षण मंच के प्रदेश संयोजक दौलत कुंवर के वजन में बुधवार को 8 किलो 400 ग्राम की गिरवाट दर्ज की गई। उन्होंने कहा जब तक प्रभावितों की मांगों पर सकारात्मक कार्यवाही नहीं हो जाती है उनका अनशन जारी रहेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Srinagar project affected people announced the boycott of Lok Sabha elections