ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड श्रीनगरशिवार्षा महादेव मंदिर भजनों से गुंजायमान रहा

शिवार्षा महादेव मंदिर भजनों से गुंजायमान रहा

मॉ चन्द्रबदनी क्षेत्र जोग्याणा गांव स्थित पौराणिक शिवार्षा महादेव मंदिर में सावन पर्व के मौके पर श्रीनगर श्रीयंत्र कीर्तन मण्डली द्वारा भव्य भजन...

शिवार्षा महादेव मंदिर भजनों से गुंजायमान रहा
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,श्रीनगरMon, 01 Aug 2022 03:40 PM
ऐप पर पढ़ें

मां चन्द्रबदनी क्षेत्र जोग्याणा गांव स्थित पौराणिक शिवार्षा महादेव मंदिर में सावन पर्व के मौके पर श्रीनगर श्रीयंत्र कीर्तन मंडली द्वारा भव्य भजन कीर्तन का आयोजन किया गया। मंडली के कलाकारों द्वारा भगवान शिव के भजन-कीर्तन से क्षेत्र को गुंजायमान कर दिया। मंदिर समिति ने पौराणिक मंदिर में उक्त कार्यक्रम आयोजन करने पर मंडली के संयोजक भोपाल सिंह चौधरी एवं कलाकारों का आभार प्रकट किया।

मंदिर में पहुंचे कलाकार चन्द्रप्रकाश नैथानी, बुद्धिबल्लभ उनियान ने विभिन्न भजनों की प्रस्तुति देकर समां बांधा। गुजरात के रहने वाले मंदिर के महंत विवेकानंद गिरी ने मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान करने पर सभी भक्तों का आभार प्रकट किया। इस मौके पर दिनेश मिश्रा, कल्पेश्वर चौधरी, देवेन्द्र मिश्रा, प्रीतम सिंह गुसाईं, पुरुषोत्तम प्रसाद भट्ट, परमेश चन्द्र नौडियाल, राघव जोशी ने कार्यक्रम में सहयोग दिया। मंदिर के संयोजक दयाल सिंह रावत, अध्यक्ष वीरेन्द्र सिंह रावत, सचिव आरती कोहली, उपाध्यक्ष नन्दन रावत, कोषाध्यक्ष देवेन्द्र भट्ट और प्रचार सचिव ऋषिराम भट्ट ने बताया कि विभिन्न सहयोगियों के अंशदान ग्रामवासियों के अथक परिश्रम से निर्माण कार्य अपने अंतिम चरण में है। कहा कि शिवार्षा महादेव मंदिर का निर्माण 1972 में जोग्याणा के बुद्धि सिंह रावत पर दैवीय कृपा होने पर प्राचीन मंदिर के अवशेष प्रकट होने के कारण हुआ था। मंदिर स्थल पर शिवलिंग, पानी की पंडाल, गोमुखी मगरा प्रकट होने के स्थान पर‌ छोटे परन्तु सुन्दर मंदिर का निर्माण किया गया। जिसे 2022 में 50 साल होने के उपलक्ष में शिवार्षा महादेव मंदिर सेवा समिति ने मंदिर परिक्रमा का निर्माण कार्य शुरू किया और साथ ही अन्य विकास कार्य आरम्भ किए। इसके साथ ही सावन पर्व पर श्रीनगर के भगवान कमलेश्वर मंदिर, कीर्तिनगर के किलकिलेश्वर, खोला के अष्टवक्रा, सरणा के तैलेश्वर महादेव, कटेश्वर महादेव घसिया, नागेश्वर मंदिर आदि में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा। भक्तों ने जलाभिषेक कर भगवान शिव से सुख-समृद्धि की कामना की।

epaper