42 doctors waiting for medical service in medical college - मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा सेवा के लिए 42 डॉक्टर का इंतजार DA Image
15 दिसंबर, 2019|2:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेडिकल कॉलेज में चिकित्सा सेवा के लिए 42 डॉक्टर का इंतजार

default image

राजकीय मेडिकल कॉलेज श्रीनगर में लम्बे समय से डॉक्टरों की कमी के कारण चिकित्सकीय सेवा पर इसका बुरा प्रभाव पड़ रहा है। आज भी मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर, एसोसिएट एवं अस्टिटेंट प्रोफेसरों के कई पद खाली पड़े हैं। लगभग 42 डॉक्टरों का आज भी मेडिकल कॉलेज को इंतजार है। यदि कॉलेज में डॉक्टरों के सभी पद भरते हैं तो यहां चिकित्सकीय सेवाओं में इजाफा होगा और गढ़वाल भर की जनता को लाभ मिलेगा। मेडिकल कॉलेज श्रीनगर में लम्बे समय से माइक्रोबायोलॉजी, नेत्र रोग, पीएमआर, मानसिक रोग, टीबी चेस्ट, ईएनटी विभाग बिना विभागाध्यक्षों के संचालित हो रहे हैं। लगभग छह प्रोफेसरों की आज भी मेडिकल कॉलेज को जरूरत है। इसके साथ ही मेडिकल कॉलेज के छह विभागों में आठ से अधिक एसोसिएट प्रोफेसरों की जरूरत है। जबकि 28 असिस्टेंट प्रोफेसरों की एक दर्जन से अधिक विभागों में जरूरत है। हालांकि शासन द्वारा समय-समय पर कॉलेज में डॉक्टरों की नियुक्ति के लिए विज्ञप्ति जारी की जाती है, किंतु पहाड़ी अस्पताल में कम ही डॉक्टर यहां चढ़ पाते हैं। जिस कारण यहां लगातार डॉक्टरों की कमी बनी हुई है। डॉक्टरों की कमी के कारण मरीज रेफर भी होते हैं। वहीं सरकार की ओर से पहाड़ के इस मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों की नियुक्ति के लिए कोई विशेष पहल नहीं की जाती है। डॉक्टरों की मांग रहती है कि हिल्स एलाउंस के साथ ही 30 प्रतिशत वेतन बढ़ोत्तरी की मांग की जाती है, किंतु उक्त मांग पर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। वर्तमान समय में आज मेडिकल कॉलेज के बेस चिकित्सालय में आज कई विभाग सीनियर डॉक्टरों की कमी के कारण इंटर्नशिप के छात्रों के भरोसे संचालित हो रहा है। यहीं नहीं स्थानीय जनता व जनप्रतिनिधि भी यहां डॉक्टरों की नियुक्ति न होने के बाद चुप्पी साधे हुई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:42 doctors waiting for medical service in medical college