DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भागवत कथा के तीसरे दिन उमड़े श्रद्धालु

पुरातन सनातन धर्म मंदिर में चल रही श्रीमद भागवत कथा में तीसरे दिन सोमवार को वृन्दावन से पधारे आचार्य अनिल कुमार शास्त्री ने प्रवचन दिए। उन्होंने बताया कि क्रोध, लोभ, काम, अहंकार जैसे वीकार आत्मा को विकलांग बना देते हैं। उन्होंने बताया कि लोभ सभी पापों का पिता है, इसे नियंत्रित करना ही सनातन धर्म है। उन्होंने कहा कि जीवन को सुखमय एवं समृद्ध बनाने के लिए अहंकार का परित्याग करना जरूरी है। इसी दौरान उन्होंने श्रावण माह के प्रथम सोमवार को मंदिर में शिवलिंग पर जल चढ़ाने वाले भक्तजनों को शिव की महिमा के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि शिव की महिमा के चलते ही सावन माह में प्राकृतिक वनस्पति से धरती हरी-भरी हो जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Trusted devotees on the third day of Bhagwat Katha