DA Image
22 नवंबर, 2020|4:37|IST

अगली स्टोरी

किच्छा के व्यापारियों ने प्रभारी निरीक्षक को घेरा

किच्छा। हमारे संवाददाता

प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल नगर महामंत्री समेत पांच व्यापारियों पर केस दर्ज होने से पदाधिकारी और क्षेत्र के व्यापारी भड़क गये हैं। आक्रोशित पदाधिकारियों और व्यापारियों ने कोतवाली में प्रभारी निरीक्षक का घेराव किया। इस दौरान उन्होंने आरोप लगाया पुलिस ने व्यापारियों पर नाजायाज तरीके से केस दर्ज किया है। इधर, प्रभारी निरीक्षक ने उन्हें न्याय का भरोसा दिलाया है।

बता दें बीते दिनों कांस्टेबल लक्ष्मण सिंह राणा ने कोतवाली में तहरीर देकर प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल महामंत्री ओम अग्रवाल, दिव्यांशु अग्रवाल, राम अवतार अग्रवाल, दीप चंद अग्रवाल, हरीश एवं अन्य तीन-चार व्यापारियों पर अभद्रता करने का अरोप लगाया था। पुलिस ने जांच के उपरांत करीब एक वर्ष बाद सभी आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इससे आक्रोशित व्यापारियों ने रविवार को व्यापार मंडल के पदाधिकारियों के साथ कोतवाली पहुंचकर प्रभारी चंद्र मोहन सिंह का घेराव किया। उन्होंने आरोप लगाया व्यापारियों पर झूठा आरोप लगा कर फंसाया गया है। इस दौरान उन्होंने व्यापारियों पर लगाये गये झूठे मुकदमे को खारिज करने की मांग की। कहा यदि निर्दोष व्यापारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई तो इसका पुरजोर विरोध किया जायेगा। कोतवाल चंद्रमोहन सिंह ने उन्हें न्याय का भरोसा दिलाया है।

मुकदमे के विरोध में व्यापारी संगठन एकजुट

किच्छा। व्यापारियों पर दर्ज केस का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। कोतवाली से आश्वासन मिलने के बाद होटल प्राइम में व्यापारियों ने बैठक की। जिसमें प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल एवं देवभूमि व्यापार मंडल समिति ने एकजुट होकर व्यापारियों के हितों के लिए लड़ाई लड़ने की बात कही। दोनों संगठनों ने तय किया यदि पुलिस द्वारा व्यापारियों के खिलाफ अनुचित कार्रवाई की गई तो आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी। यळज्ञँ प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के जिला उपाध्यक्ष सतपाल गाबा, महामंत्री निर्मल सिंह हंसपाल, देवभूमि व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष महेन्द्र गोयल, गुलशन सिंधी, राजकुमार बजाज, महादेव अग्रवाल, प्रकाश गोयल, लियाकत अंसारी, दानिश इकबाल अहमद, गौरव अरोरा, प्रदीप पुजारा रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Kichha traders surround the inspector in charge