DA Image
28 अक्तूबर, 2020|1:50|IST

अगली स्टोरी

सितारगंज में कांग्रेसियों ने भीख मांगकर कृषि कानूनों का विरोध किया

सितारगंज में कांग्रेसियों ने भीख मांगकर कृषि कानूनों का विरोध किया

केंद्र सरकार से पारित कृषि कानूनों से कांग्रेसियों और किसानों का गुस्सा फूट गया है। आक्रोशित कांग्रेस कार्यकर्ताओं और किसानों ने भीख मांगकर केंद्र सरकार के खिलाफ आक्रोश जताया। साथ ही काले झंडे लहराये। इस दौरान उन्होंने कहा भीख में एकत्रित धनराशि को वे पीएम केयर फंड में भेजेंगे।

गुरुवार को कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक नारायण पाल के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं और किसानों ने मुख्य चौक पर धरना दिया। इसके बाद वे हाथों में कटोरा लेकर आसपास घूमे। पाल ने कहा अन्नदाता किसान जो विषम परिस्थितियों में घाटे का कारोबार कर सबकी रोटी का इंतजाम करता है। केंद्र सरकार ने उसे ही सड़क पर ला दिया है। कहा मोदी राज में किसानों के हाथों में कटोरा पकड़ाने का षड्यंत्र किया जा रहा है। उन्होंने कहा सरकार ने कंपनियां चलाने के लिए किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को स्थान दिया। कांटेक्ट फार्मिंग में किसानों के साथ न्याय नहीं किया गया। अपने हकों के लिए किसान कोर्ट तक नहीं जा पायेगा। इस दौरान उन्होंने कहा भीख मांगकर एकत्रित किये गये चंदे को प्रधानमंत्री केयर फंड में दिया जायेगा। ताकि मोदी सरकार की चहेती कंपनियों की सहायता हो सके। यहां पूर्व दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री हसनैन मलिक, अनवर अहमद, गुरप्रीत दियोल, पूरन चौहान, वसीम मियां, जसवंत सिंह जस्सा, गुरदयाल सिंह, विपिन खोलिया, दयानंद सिंह, सतवंत सिंह, बलवीर सिंह, जसप्रीत सिंह, इश्तियाक अंसारी, बक्सीश सिंह, देवेंद्र राणा, सूरज राणा, ताबीर, जावेद सिद्दीकी, गुरुमुख सिंह, हरजीत सिंह शामिल रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:In Sitarganj Congressmen begging and opposing agricultural laws