DA Image
22 सितम्बर, 2020|4:55|IST

अगली स्टोरी

ऐक्टू कार्यकर्ताओं ने फूंकी श्रम कोड की प्रतियां

ऐक्टू कार्यकर्ताओं ने फूंकी श्रम कोड की प्रतियां

ऑल इंडिया सेंट्रल कॉउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (ऐक्टू) ने देशव्यापी अभियान के तहत चार लेबर कोड, बढ़ती बेरोजगारी, निजीकरण, देश के संसाधनों को बेचने और लोकतंत्र को कुचलने के खिलाफ मजदूर अधिकार अभियान का शुभारंभ किया। यह अभियान शहीद भगत सिंह के जन्म दिवस 28 सितंबर तक चलाया जाएगा। इस दौरान ऐक्टू ने मोदी सरकार द्वारा लाये गए श्रम कोड की प्रतियां जलाईं। साथ ही तत्काल चारों श्रम कोड को वापस लेने की मांग की।

बुधवार को आंबेडकर पार्क में आयोजित कार्यक्रम में ऐक्टू के प्रदेश महामंत्री केके बोरा ने कहा इस अभियान के तहत 16 से 28 सितंबर तक सरकार की गलत नीतियों को जनता तक पहुंचाने का काम किया जाएगा। आरोप लगाया केंद्र सरकार द्वारा चार लेबर कोड को बढ़ावा देते हुए मजदूरों को गुलामी की ओर धकेल रहे हैं। यही वजह है श्रमिक संगठन चार श्रम कोड़ को समाप्त करने की आवाज उठा रहे हैं। इस दौरान सिडकुल श्रमिक नेता दिनेश तिवारी ने असंगठित मजूदरों को लॉकडाउन का पूरा वेतन देते हुए छह माह तक दस हजार रुपये प्रतिमाह देने, निर्वाह भत्ता और मुफ्त राशन देने , छंटनी, वेतन कटौती, डीए पर रोक और सामाजिक सुरक्षा में कटौती बंद करने की मांग उठाई। यहां निरंजन लाल, कैलाश कुमार, हेमंत भट्ट, विपिन कुमार, कमलेश जोशी, रविंद्र पाल, राजेंद्र सिंह, परशुराम, प्रेम गंगवार, राजपाल, सूरज कुमार, राजेंद्र सिंह, मनोज शर्मा आदि रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Actu workers burnt copies of labor code