DA Image
23 सितम्बर, 2020|3:10|IST

अगली स्टोरी

कोट बिचला के ग्रामीणों की जाए सुरक्षा

default image

रुद्रप्रयाग जिले का कोट बिचला गांव भी खतरे की जद में आ गया है। यहां रह रहे करीब 35-40 परिवार कुछ दिनों से परेशानियों का सामना कर रहे है। लोग गांव में जान जोखिम में डालकर रह रहे हैं।अगस्त्यमुनि ब्लॉक के कोट बिचला गांव में बीते 23 व 24 अगस्त की रात्रि आई भारी बारिश के चलते गांव भूस्खलन की चपेट में आने से यहां अनुसूचित जाति के परिवारों को नुकसान का सामना करना पड़ा किंतु इस लोगों की समस्या पर न तो जनप्रतिनिधियों का ध्यान गया और न ही शासन-प्रशासन ने कोई सुध ली। ग्रामीण ग्रामीणों बिंदीलाल शाह का कहना है कि काफी नुकसान होने के बाद प्रभावित की सुरक्षा का कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। न ही मुआवजा मिला और नही पुर्नवास को लेकर कोई पहल की जा रही है। उन्होंने बताया कि उनका शौचालय व स्नानागार को क्षति पहुंची है। ग्रामीण सुरेशलाल की गौशाला व सुरेन्द्रलाल की काफी जमीन मलबे में दब गई है। पंचायत द्वारा निर्मित पानी की टंकी ध्वस्त होने से ग्रामीणों को पानी की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन से मांग की है कि उन्हें नेशनल हाईवे जैसी सुरक्षित स्थान पर विस्थापित किया जाए। इस संबंध में ग्रामीण बिंदीलाल शाह, सुरेन्द्र लाल शाह, रमेश लाल, श्याम लाल, गिरीश लाल, सुरेन्द्र लाल, जीतू लाल, उम्मेद लाल, सुरेश लाल, रणवीर लाल, विनोद लाल, देवेन्द्र लाल, लखपति लाल, कमला देवी, भवानी देवी, सत्येश्वरी देवी, शांति देवी, उमादेवी, परबली लाल आदि ने सरकार को ज्ञापन भी दिया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Villagers of Kot Bichla should be protected