DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  रुद्रप्रयाग  ›  सौ रुपये के काम को हजार करने पड़ रहे खर्च
रुद्रप्रयाग

सौ रुपये के काम को हजार करने पड़ रहे खर्च

हिन्दुस्तान टीम,रुद्रप्रयागPublished By: Newswrap
Thu, 27 May 2021 01:50 PM
सौ रुपये के काम को हजार करने पड़ रहे खर्च

कोविड की दूसरी लहर ने बाजारों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी मुश्कलें पैदा की हैं। एक ओर आदमी को सौ रुपये के काम के लिए एक हजार रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं वहीं गाड़ी वाले भी कोई जोखिम नहीं उठाना चाह रहे हैं, वह भी 50 फीसदी सवारी पर चलने को तैयार नहीं है, बुकिंग मिली जो गाड़ी चला रहे हैं।

रुद्रप्रयाग जिले के धनपुर, बच्छणस्यूं, रानीगढ़, तल्लानागपुर, भरदार पट्टी के साथ ही जखोली और ऊखीमठ ब्लॉक के ग्रामीण क्षेत्रों के लोग काफी मुश्किलों में हैं। सड़क पर रुटीन की गाड़िया न चलने से इमरजेंसी में उन्हें गाड़ी बुक कर गतंव्य को जाना पड़ रहा है। गांवों से शहर और नजदीकी अस्पतालों को पहुंचने में भी गाड़ी बुकिंग करानी पड़ रही है। इसके लिए उन्हें मोटा किराया देना पड़ रहा है। धनपुर पट्टी के पावों, बीरों, घडियाल्का, ग्वैफड आदि गांवों के लोग मुख्य बाजार तक पहुंचने के लिए एक से दो हजार रुपये खर्च कर रहे हैं। यही नहीं ऊखीमठ क्षेत्र के लोग 2000 और गौरीकुंड के लोग 4000 रुपये में गाड़ी बुक करने को मजबूर हैं। ऐसे कई क्षेत्र हैं लोगों को सौ रुपये के काम के लिए एक हजार रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। स्थानीय निवासी रघुवीर सिंह, दिनेश चन्द्र, कालीचरण रावत, देवेंद्र सिंह आदि का कहना है कि गाड़ी न चलने से लोगों को काफी मुश्किलें उठानी पड़ रही है। इधर वाहन स्वामियों का कहना है कि 50 फीसदी सवारी में लोग डबल किराया देने को तैयार नहीं है जबकि दोगुना किराया लेने पर परिवहन विभाग कार्रवाई कर रहा है ऐसे में वाहन चालक महज बुकिंग पर ही चल रहे हैं। एआरटीओ मोहित कोठारी ने बताया कि वाहन चालकों को सरकार की गाइडलाइन का पालन करना होगा। इसके लिए चलने वाले वाहनों की चेकिंग भी की जा रही है।

संबंधित खबरें