ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंड रुद्रप्रयागगिंवाला में कलश यात्रा के साथ श्रीमद् भागवत महापुराण शुरू

गिंवाला में कलश यात्रा के साथ श्रीमद् भागवत महापुराण शुरू

चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...

चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
1/ 3चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
2/ 3चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
3/ 3चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा...
हिन्दुस्तान टीम,रुद्रप्रयागSun, 11 Feb 2024 04:00 PM
ऐप पर पढ़ें

चन्द्रशेखर मंदिर गिंवाला सौड़ी में भव्य जल कलश यात्रा के साथ ही श्रीमद् भागवत महापुराण का आयोजन शुरू हो गया है। इस मौके पर बड़ी संख्या में भक्त कथा श्रवण के साथ ही भगवान से आशीर्वाद लेने पहुंच रहे हैं।
रविवार को चंद्रशेखर मंदिर गिंवाला सौडी के कथा मंडप में श्रीमद्भागवत महापुराण के शुभारंभ पर सभी लोगों ने इस पुण्य कार्य में आपसी सहयोग देने का भरोसा दिया। विश्व शांति एवं जगत के कल्याण के निमित्त आयोजित हो रहे भागवत महापुराण में गिंवाला, सौडी़, बुटोलगाँव आदि गाँवों की महिलाओं ने कीर्तन भजन गाकर माहौल को भक्तिमय बना दिया। मंदाकिनी नदी से महिलाओं ने जल कलश भरकर ढोल दमाऊं के साथ बाजार में शोभा यात्रा निकाली। कथा व्यास विजय प्रसाद बेंजवाल ने श्रीमद् भागवत कथा का वाचन किया। बता दें कि श्री चंद्रशेखर महादेव मंदिर गिंवाला गांव में मंदाकिनी नदी के बाएं किनारे 350 साल पुराना था, जो कि केदारनाथ आपदा में बह गया था। बीते वर्ष इस मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया। गांव वालों ने इसके लिए करीब दो बीघा जमीन दान की और श्रमदान किया। यह मंदाकिनी नदी के किनारे सबसे भव्य मंदिर है। आयोजन समिति से जुड़े स्वामी राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि 16 फरवरी को हवन और 17 फरवरी को विशाल भंडारा के साथ ही पूर्णाहुति होगी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें