New drinking water scheme not built for three decades in the upheaval - ऊखीमठ में तीन दशक से नहीं बनी नई पेयजल योजना DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऊखीमठ में तीन दशक से नहीं बनी नई पेयजल योजना

ऊखीमठ नगर क्षेत्र में पेयजल योजना का पुनर्गठन न होने से इस बार भी नगरवासियों को पेयजल की समस्या से जूझना पड़ेगा। पिछले तीन दशकों से ऊखीमठ नगर के लिए कोई भी पेयजल योजना नहीं बन पाई है जबकि 90 के दशक की पेयजल योजना के सापेक्ष जनसंख्या दस गुना बढ़ चुकी है। ऊखीमठ क्षेत्र में 90 के दशक में पेयजल कनेक्शनों की संख्या 40 थी, वहीं अब यहां 550 पेयजल कनेक्शन है। वर्तमान में पिंगलापनी, मंगोली व फाफंज की पेयजल योजनाओं से सप्लाई की जा रही है। गर्मियों में इन स्रोतों का जलस्तर कम होने के कारण नगर में पेयजल की गम्भीर समस्या पैदा होती है। जनता को पानी की गंभीर समस्या होने के बाद भी जल संस्थान नई योजना को शुरू नहीं कर पा रहा है। बीते वर्ष ऊखीमठ में पानी की गम्भीर समस्या के चलते टेंकरों से सप्लाई की गई जबकि इस बार भी स्थिति अभी से खराब होने लगी है। पिंगलापानी में मौजूद जल स्रोत में पर्याप्त मात्रा में पानी है जहां से मात्र दो इंच ही सप्लाई की जा रही। स्थानीय लोगों का कहना है कि यदि योजना से यहां 6 इंच पानी सप्लाई की जाती है तो नगर क्षेत्र में लोगों को पेयजल किल्लत नहीं होगी। नगर पंचायत अध्यक्ष रीता पुष्पवान का कहना है कि जल संस्थान की लापरवाही के चलते नई योजनाओं पर कार्य नहीं हो रहा है। पेयजल किल्लत होने पर नगर पंचायत की ओर से पानी के टेंकर की व्यवस्था की जाएगी। इधर जल संस्थान के कनिष्ठ अभियंता वीरेंद्र भण्डारी का कहना है कि पेयजल की नई योजना के लिए विभागीय स्तर पर कार्रवाई की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:New drinking water scheme not built for three decades in the upheaval