DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भवती की मौत में डीएम ने लिखा प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को पत्र

जिला अस्पताल में गर्भवती महिला की मौत को लेकर डीएम ने प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को पत्र लिखकर कार्रवाई की संस्तुति दी है। इधर बड़ी लापरवाही के बाद भी मेडिकल बोर्ड द्वारा डॉक्टर के पक्ष में जांच रिर्पोट पर रुद्रप्रयाग विधायक भरत सिंह चौधरी भी नाराज हुए हैं। उन्होंने कहा कि मजिस्ट्रेटी जांच में दोषी पाए जाने के बावजूद विभागीय जांच में डॉक्टर को क्लीन चिट देना पूरी तरह पक्षपात है।रुद्रप्रयाग जिले की कांडा सिमतोली गांव की 30 वर्षीय आशा देवी प्रसव के लिए 3 जुलाई को जिला अस्पताल में भर्ती हुई, किंतु लापरवाही के कारण उसकी मध्य रात्रि में मौत हो गई। इस मामले में प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की जांच रिर्पोट अलग-अलग आने से रुद्रप्रयाग विधायक भरत सिंह चौधरी आक्रोशित हुए। उन्होंने कहा कि मजिस्ट्रेटी जांच में पूरी तरह डॉक्टर की लापरवाही पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग की जांच रिर्पोट में डॉक्टरों की कोई लापरवाही नहीं बताई गई। यह पूरी तरह पक्षपात को दर्शाती है। जांच में शामिल लोगों ने जन भावनाओं को नकार दिया। उन्होंने कहा कि इस मामले में उन्होंने डीएम को उच्चस्तरीय जांच कराने के लिए कहा है। इधर, डीएम मंगेश घिल्डियाल ने प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को पत्र लिखकर मामले में कार्रवाई की संस्तुति दी है। डीएम ने कहा कि यह मामला काफी गंभीर है इसलिए इसकी उच्चस्तरीय जांच की जानी जरूरी है। दोषियों को किसी भी दशा में बख्सा नहीं जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:DM writes in a letter to Health Secretary on the death of pregnant