DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रतूड़ा के जलेश्वर महादेव में शिवमहापुराण शुरू

ग्वाड़ रतूड़ा के जलेश्वर महादेव मंदिर में पूजा अर्चना के साथ शिव महापुराण का शुभारंभ हो गया। इस मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने इस धार्मिक आयोजन में भाग लिया। पहले दिन विधि-विधान से पूजा अर्चना की गई और पुस्तक पूजा के साथ कथा व्यास ने शिवमहा पुराण आरंभ किया।रतूड़ा में आयोजित शिव महापुराण के पहले दिन कथा व्यास सुशील फोन्दणी ने कहा कि भगवान को करीब पाने के लिए सत्संग एक बड़ा माध्यम है, बिना सत्संग के प्रभु के करीब जाना संभव नहीं है। कहा कि शिव महापुराण में इतनी शक्ति है जिस वर्णन करना संभव नहीं है। इसके श्रवण से मनुष्य के कई पापों का नाश होता है। उन्होंने भक्तों को जीवन में अधिक से अधिक समय निकालकर भक्ति के मार्ग पर चलने का अनुरोध किया। कहा कि भक्ति के बिना जीवन की सार्थकता व्यर्थ है इसलिए भगवान की अराधना करते हुए नित्य आध्यात्म से आत्मसाथ करें। इस मौके पर ग्रामीण इस आयोजन में पूरा सहयोग दे रहे हैं। पहले दिन कथा श्रवण के लिए रतूड़ा के आस-पास से बड़ी संख्या में भक्त कथा श्रवण को पहुंचे। इस मौके पर प्रकाश चन्द्र चौकियाल, विश्वेश्वर प्रसाद थपलियाल, रघुनंदन प्रसाद सिलोडी, मंदिर समिति अध्यक्ष जीत सिंह पंवार, गोविंद सिंह रौथाण, कीरत कपरवाण, महेंद्र पंवार, फते सिंह पंवार, दर्शन राणा, दीपक रावत, पंकज चौधरी, संजय रौथाण, सते सिंह पंवार, गोपाल पंवार, नत्था सिंह राणा, अनिता चौकियाल, रमेश रौथाण आदि शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Dignity is found in life: Acharya Sushil