अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्य सचिव और पर्यटन सचिव ने किया केदारनाथ का निरीक्षण

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने शनिवार को केदारनाथ में हो रहे कार्यो का जाजया लिया। इस दौरान उन्होंने अफसरों को कहा कि केदारनाथ में बेहतर से बेहतर व्यवस्था और सुविधाएं जटाई जाएं ताकि केदारनाथ यात्रा में बढोत्तरी हो और रज्य और क्षेत्र की अर्थव्यवस्था मजबूत हो सके।सुबह हेलीकॉप्टर से केदारनाथ धाम पहुंचकर मुख्य सचिव और पर्यटन सचिव ने मंदिर में पूजा अर्चना और दर्शन किए। इसके बाद केदारनाथ धाम में निर्माणाधीन रेप्लिका, रास्ते, पुलों, उद्वव कुण्ड, भैरव मन्दिर रास्ते आदि कार्यो का निरीक्षण किया। उन्होंने अफसरों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। मुख्य सचिव व पर्यटन सचिव ने केदारनाथ धाम में पुनर्निर्माण कार्य कर रही संस्थाओं को समय पर कार्य पूरा करने के लिए निर्देशित किया। कहा कि आगामी माह से यात्रियों की संख्या मे तेजी आएगी। इसलिए यात्रियों को जितनी सुविधाएं मिल सके, इसके प्रयास किए जाएं। इससे उत्तराखंड की अर्थव्यवस्था को अधिक मजबूती मिलेगी। इस मौके पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने लोनिवि के अधीक्षण अभियंता को वीआईपी हैलीपेड मन्दिर के रास्ते तक लोकल पत्थर बिछाने, मन्दिर के बगल में निर्मित की जा रही रेप्लिका के मुख्य द्वार पर पारदर्शी शीट लगाने के निर्देश दिए। इससे लोग आसानी से रेप्लिका को देख सके। इसके साथ ही उद्धव कुण्ड, शंकराचार्य समाधि व भैरव मन्दिर रास्ते के कार्य को शुरू कर जल्द से जल्द पूरा करने के लिए निम व सिंचाई विभाग को कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। कहा कि निर्धारित समय सीमा के भीतर कार्य न करने पर सम्बन्धित निर्माणदायी संस्था के विरूद्व कार्रवाई की जाएगी। इस मौके पर डीएम मंगेश घिल्डियाल ने सभी कार्यदायी संस्थाओं को मुख्य सचिव के निर्देशानुसार कार्य करने के निर्देश दिए। कहा कि मुख्य सचिव द्वारा दिए गए निर्देशों का विभाग कडाई से अनुपालन करेंगे। किसी भी प्रकार की लापरवाही बरतने पर संबंधित अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस मौके पर लोनिवि के अधीक्षण अभियंता मुकेश परमार, एसडीएम ऊखीमठ गोपाल सिंह चौहान, सीओ अभय कुमार, एसआई बिपिन चन्द्र पाठक आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Chief Secretary and Tourism Secretary did the inspection of Kedarnath