DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओंकारेश्वर से केदारनाथ धाम को चले बाबा केदार

ओंकारेश्वर से केदारनाथ धाम को चले बाबा केदार

भगवान केदारनाथ की पंचमुखी उत्सव डोली गुरुवार को पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से केदारनाथ धाम के लिए रवाना हो गई। सेना के बैंड और पारंपरिक वाद्य यंत्रों की धुनों के बीच जय बाबा केदार के जयघोषों के साथ बड़ी संख्या में भक्तों ने डोली को ऊखीमठ से विदा किया। पैदल यात्रा के पहले पड़ाव में डोली देर शाम फाटा पहुंची। •गुरुवार सुबह ओंकारेश्वर मंदिर परिसर ऊखीमठ में डोली की पूजा शुरू की गई। भंडार गृह से बाहर लाने के बाद पंचमुखी डोली का श्रृंगार हुआ और फूल मालाओं से सजाया गया। ऊखीमठ मंदिर के पुजारी शिव शंकर लिंग ने मंत्रोचार के साथ पूजा अर्चना की। केदारनाथ के रावल भीमा शंकर लिंग और केदारनाथ पुजारी गंगाधर लिंग की मौजूदगी में डोली की विधिवत पूजा की गई। भक्तों के दर्शनों के बाद डोली ने मंदिर की परिक्रमा के बाद केदारनाथ धाम को प्रस्थान किया। इस मौके पर सेना की जेकलाई रेजीमेंट की मधुर धुनों ने शमा बांधा। ऊखीमठ से प्रस्थान के बाद डोली का फार्मेसी विद्यापीठ में स्वागत किया गया जबकि गुप्तकाशी बाजार में तीर्थपुरोहित, केदारसभा और स्थानीय लोगों ने डोली का स्वागत किया। तीर्थपुरोहितों ने वेद ध्वनि से डोली का स्वागत किया। पैदल मार्ग में जगह जगह स्थानीय जनता, स्कूली बच्चे डोली के स्वागत के लिए इंतजार करते रहे। इधर, बदरी केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष गणेश गोदियाल एवं मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने भगवान केदारनाथ की डोली के केदारनाथ धाम प्रस्थान होने पर शुभकामनाएं दी। गुरुवार को देर सांय डोली फाटा पहुंची। इससे पहले अनेक स्थानों पर डोली का फूल मालाओं से स्वागत किा गया। इस मौके पर रावल भीमाशंकर लिंग, केदारनाथ विधायक मनोज रावत, बीकेटीसी सदस्य श्रीनिवास पोस्ती, शिव सिंह रावत, प्रदीप बगवाड़ी, कार्याधिकारी एनपी जमलोकी, सहायक अभियंता गिरीश देवली, प्रशासनिक अधिकारी राजकुमार नौटियाल, वचन सिंह रावत, लेखाकार आरसी तिवारी, डॉ हर्षवर्धन बेंजवाल, वेदपाठी यशोधर मैठाणी, विश्व मोहन जमलोकी, मुख्य पुजारी राजशेखर लिंग, शिवशंकर लिंग, टी गंगाधर लिंग, बागेश लिंग, डॉ हरीश गौड़, अरविंद शुक्ला, शशि सेमवाल, प्रदीप सेमवाल, अनूप पुष्पवाण, पुष्कर सिंह रावत, विदेश शैव, प्रमोद केशिव, प्रेम सिंह रावत, देवानंद गैरोला, अनूप रावत, दीपक राणा, ऊखीमठ नगर पंचायत अध्यक्ष रीता पुष्पवाण, केदार सभा अध्यक्ष विनोद शुक्ला, लक्ष्मी प्रसाद भट्ट, कुबेरनाथ पोस्ती, आंनद सेमवाल, गणेश शुक्ला, डीपी बगवाड़ी, अरुण शुक्ला, महेंद्र पोस्ती, वीरेंद्र शर्मा, धर्मेश सेमवाल आदि मौजूद थे।

आज को गौरीकुंड पहुंचेगी डोली

केदार बाबा की डोली आज शुक्रवार को रात्रि विश्राम के लिए गौरीकुंड पहुंचेगी। जबकि 28 अप्रैल शनिवार को सांय डोली केदारनाथ धाम पहुंचेगी। 29 अप्रैल सुबह 6 बजकर 15 मिनट पर विश्व प्रसिद्ध धाम केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे।

आस्था, भक्ति और उल्लास का दिखा पर्व

ऊखीमठ। भगवती शैव

बाबा केदार की डोली केदारनाथ धाम के लिए जैसे ही तैयार होनी शुरू हुई तो ऊखीमठ सहित पूरी केदारघाटी में आस्था, भक्ति और उल्लास का पर्व दिखा। हर तरफ से जय बाबा केदार के जयघोष सुनने को मिले तो अटूट आस्था की कई अद्भुत तस्वीरें भी देखने को मिली।ऊखीमठ पंचकेदार गद्दीस्थल से बाबा केदार की डोली केदारधाम जाने की परम्परा सदियों से चली आ रही है। तब भी बच्चों से लेकर महिला, पुरुष और बुर्जुग सड़क किनारे डोली का स्वागत करते रहे और आज भी बदस्तूर यह परम्परा जारी है। बाबा पर अटूट आस्था के चलते कई जगहों पर बूढ़ी से बूढ़ी महिलाएं भी वृद्ध बाबा की डोली से आशीष मांगते दिखे। इस धार्मिक उल्लास में हर कोई सुखद यात्रा के साथ ही सुख शांति की कामना करते दिखे। इधर यात्रा मार्ग में डोली प्रस्थान के बाद लोग यात्रा तैयारियों में भी जुट गए। रास्तों में होटल, लॉज और दुकानों में बाबा की डोली से आशीर्वाद मांगते लोगों ने अपने कारोबार का शुभारंभ भी किया। वहीं डोली प्रस्थान के बाद यात्रा मार्ग में भी चहल-पहल शुरू होने लगी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Baba Kedar from Omkareshwar to Kedarnath Dham