DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › रुड़की › 190 दिन बाद भी नहीं मिली धोखाधड़ी में शामिल महिला
रुडकी

190 दिन बाद भी नहीं मिली धोखाधड़ी में शामिल महिला

हिन्दुस्तान टीम,रुडकीPublished By: Newswrap
Wed, 27 Jan 2021 03:30 PM
190 दिन बाद भी नहीं मिली धोखाधड़ी में शामिल महिला

190 दिन गुजरने के बाद भी धोखाधड़ी में शामिल महिला को पुलिस नहीं ढूंढ पाई है। पुलिस का दावा है कि आरोपी घर से फरार है। संभावित ठिकानों पर लगातार दबिश जारी है।

सडोला माजरा कोतवाली मंगलौर निवासी राजबीर सिंह ने बेलडा गांव के पास हाईवे पर आठ जुलाई 2020 को दो बीघा जमीन पसंद की थी। सौदा 25 लाख रुपये में तय हुआ था। बीरम सिंह निवासी बेलडा को जमीन का मालिक बताया गया था। सौदा पक्का होने पर मौके पर ही एडवांस में एक लाख रुपये दिए गए थे। बाकी के 24 लाख रुपये 9 जुलाई को देना तय हुआ था। नौ जुलाई को रुड़की तहसील में जमीन को नाम कराने की प्रक्रिया चल रही थी।

इस बीच जब अधिकारियों ने जमीन के बारे में पूछताछ की तो मुख्य आरोपी दीपक सैनी और उसका साथी बगल झांकने लगे। शक होने पर राजबीर सिंह ने अपने अन्य परिचितों की मदद से जमीन के बारे में जानकारी जुटाई। जांच पड़ताल में पता चला कि जो शख्स तहसील में मौजूद है, वह जमीन का असल मालिक नहीं है। पुलिस ने दीपक सैनी समेत दो आरोपियों को धर दबोचा था। पूछताछ में आरोपियों ने बताया था कि उनका एक गैंग है, जो फर्जी कागजातों के सहारे दूसरों की जमीनों को बेचता है।

दीपक सैनी निवासी इब्राहिमपुर मसही थाना भगवानपुर हाल गली नंबर दो रामनगर, नरेश शर्मा उर्फ बीरम और उसकी पत्नी मंजू निवासी छिद्दरवाला थाना रायवाला देहरादून और इस्लाम निवासी रहमतपुर रोड थाना कलियर को गिरफ्तार किया था लेकिन धोखाधड़ी में शामिल शमा परवीन निवासी श्यामपुर थाना ऋषिकेश देहरादून की गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी। छह महीने से भी अधिक का समय गुजर चुका है, लेकिन अभी तक पांचवीं आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। सिविल लाइंस कोतवाली के उप निरीक्षक रणजीत खनेडा ने बताया कि धोखाधड़ी में शामिल पांचवीं आरोपी शमा परवीन घर से फरार है। संभावित ठिकानों पर दबिश जारी है।

संबंधित खबरें