DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  रुड़की  ›  आया मानसून तो धान रोपाई की तैयारी में जुटे किसान
रुडकी

आया मानसून तो धान रोपाई की तैयारी में जुटे किसान

हिन्दुस्तान टीम,रुडकीPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 06:10 PM
आया मानसून तो धान रोपाई की तैयारी में जुटे किसान

उत्तराखंड में इस बार मानसून की दस्तक से किसानों के चेहरे पर खुशी झलक रही है। मानसूनी की संभावित बारिश होते ही स्थानीय किसानों को धान की पौध रोपाई करनी है। बड़े किसान रोपाई के लिए खेतों की तैयारी में जुट गए हैं। हालांकि छोटे किसान अभी तक पौधे की बुआई ही कर रहे हैं।

हरिद्वार जिले के किसान गन्ने के बाद सबसे ज्यादा खेती धान व गेहूं की करते हैं। ऐथल बुजुर्ग, सुभाषगढ़, तिगरी, बुक्कनपुर, सहीपुर, याहियापुर, हस्तमौली सहित लक्सर व खानपुर के बीस ऐसे गांव हैं, जहां पंजाब से विस्थापित होकर आए सिख किसान परिवार बसे हुए हैं। ये परिवार सबसे ज्यादा धान ही उगाते हैं। धान को दूसरी फसलों की अपेक्षा पानी की जरुरत ज्यादा होती है, लिहाजा अधिकांश किसान इसकी रोपाई के लिए मानसूनी बारिश का इंतजार करते हैं। इस बार उत्तराखंड में समय रहते मानसून का प्रवेश हेा गया है। अससे धान उत्पादक किसान खुश नजर आ रहे हैं। सरदार गुरमुख सिंह, बचन सिंह, तेज सिंह, जसवीर सिंह ने बताया कि धान की रोपाई के लिए खेत को पानी से लबालब करना पड़ता है। नलकूप चलाकर रोपाई करने से धान की लागत काफी बढ़ जाती है। समय से मानसूनी बारिश हुई तो किसानों को फसल पर कम लागत लगानी पड़ेगी। महक सिंह, चौधरी राजकुमार, नवाब सिंह, गोरख सिंह आदि किसानों का कहना है कि जो किसान धान की फसल ज्यादा उगाते हैं, उनकी पौध लगभग रोपाई के लिए तैयार हैं। लिहाजा उन्होंने मानसूनी बारिश होने से पहले रोपाई के लिए अपने खेतों की जुताई आदि शुरू कर दी है। सुक्का, मदन सिंह, मोहन सिंह आदि का कहना है कि कुछ किसान अपनी जरुरत भर के चावल पैदा करने के लिए थोड़ा बहुत धान लगाते हैं। वे अभी खेतों में पौध की बुआई भी कर रहे हैं।

संबंधित खबरें