DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › रुड़की › टायर फैक्ट्री के श्रमिकों का मांगों को लेकर हंगामा
रुडकी

टायर फैक्ट्री के श्रमिकों का मांगों को लेकर हंगामा

हिन्दुस्तान टीम,रुडकीPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 11:10 PM
टायर फैक्ट्री के श्रमिकों का मांगों को लेकर हंगामा

त्रिवार्षिक समझौते के विरोध में टायर फैक्ट्री की छह ट्रेड यूनियनों का धरना तीसरे दिन भी जारी रहा। इस दौरान श्रमिकों ने फैक्ट्री प्रबंधन पर श्रमिकों का शोषण करने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी भी की। उन्होंने मांग की है कि समझौते में 5600 के बजाय 11000 रुपये की बढ़ोतरी कर श्रमिकों को नौ माह का एरियर दिया जाए।

लक्सर की टायर फैक्ट्री में प्रबंधन व श्रमिकों के बीच वेतन बढ़ोतरी को लेकर हर तीन साल बाद समझौता होता है। इस बार प्रबंधन ने 20 यूनियनों के साथ 5600 रुपये की बढ़ोतरी पर समझौता किया था, जबकि छह यूनियन समझौते पर सहमत नहीं हैं। इन छह यूनियन ने उप श्रमायुक्त कोर्ट में वाद दायर किया था, पर वहां से फैक्ट्री प्रबंधन के पक्ष में फैसला हुआ है। इस फैसले के खिलाफ छह यूनियन के श्रमिक शुक्रवार से कंपनी के मेन गेट के बाहर धरना दे रहे हैं। रविवार को तीसरे दिन भी श्रमिकों का धरना जारी रहा। इस दौरान श्रमिकों ने फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ जमकर हंगामा और नारेबाजी की। यूनियन के पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि प्रबंधन श्रमिकों का आर्थिक शोषण कर रहा है। उन्होंने मांग की है कि समझौते में बढ़ोतरी 5600 रुपये से बढ़ाकर 11000 की जाए। साथ ही कहा कि प्रबंधन बढ़ोतरी को 1 जून से लागू कर रहा है, जबकि इसे 1 जनवरी से लागू करते हुए जनवरी से अब तक नौ माह का एरियर श्रमिकों को दिया जाए। कहा कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी, तब तक श्रमिक आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। रविवार को धरने पर अशोक कुमार, सहीपाल सिंह, रामकुमार, कप्तान सिंह, चैनपाल सिंह, सुखविंदर सिंह, ओमवीर सिंह, गोविंद सिंह, महकार सिंह, राजीव कौशिक, बलदेव पाल, निशांत कुमार आदि श्रमिक मौजूद रहे।

संबंधित खबरें