अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मजलिसों का आयोजन कर मातमी जुलूस निकाला

मजलिसों का आयोजन कर मातमी जुलूस निकाला

मोहर्रम की चांद रात पर अजादारों ने मजलिसों का आयोजन करते हुए मातमी जुलूस निकाला। जिसमें भारी संख्या में लोगों ने भाग लिया।

नगर से लेकर देहात तक मोहर्रम का चांद दिखाई देने के साथ ही इमामबाड़ों में मजलिसों का सिलसिला शुरू हो गया है। बीती शाम चांद रात के अवसर पर स्थानीय मोहल्ला पठानपुरा स्थित दरबारे-हुसैन में मजलिस के बाद मातमी जुलूस शुरू हुआ। जो बारगाहे जैनबया, बारगाहे बाबुल मुराद होता हुआ बड़े इमामबाड़े पर पहुंचकर शांति पूर्ण सम्पन्न हुआ। मजलिस में सोज ख्वानी आदिल मंगलौरी, जान मेहंदी, मुनीर हैदर, विशाल हैदर, हुज्जत अब्बास आदि मौजूद रहे। नोहा ख्वानी करने वालों में हुसैन हैदर, हसनैन रजा जैदी, वफा आबदी, शबाब मेंहदी आदि शामिल रहे। बारगाहे बाबुल मुराद व बारगाहे जैनबया में जौनपुर उत्तर प्रदेश से आए मौलाना फिरोज हैदर खान ने मजलिसों को खिताब करते हुए हजरत इमाम हुसैन के जीवन व उनके मिशन पर प्रकाश डाला। मजलिसों में रजब अली आरफी, मजाहिर हुसैन, युसुफ हुसैन, अकील अहमद, रिहान हैदर, शमशुल हसन, शहवार हसन, नईम अब्बास, नसीम हैदर, जीशान, मीर जमीर, रियाज हसन, अली मेहंदी, रौनक जैदी, वरिष्ठ शायर कौसर जैदी कैरानवी शामिल रहे। उधर, मोहल्ला हल्का व मोहल्ला बंदरटोल में भी मजलिसों का आयोजन हुआ। यहां पर भारी संख्या में अजादारों ने शिरकत की। लण्ढौरा क्षेत्र के गांव जैनपुर झंझेड़ी व लण्ढौरा तथा ग्राम टाण्डा भन्हेंडा में भी चांद रात पर मजलिसों का आयोजन हुआ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The Majlis march