DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सामाजिक परिवर्तन की वाहक बनेगी संघ शाखा

राष्ट्र का निर्माण समाज से और समाज का निर्माण व्यक्तियों से होता है। यदि व्यक्ति का शारीरिक,बौद्धिक, नैतिक विकास हो जाए तो भारत परम वैभव पर पहुंचेगा। आरएसएस की शिव शाखा के कार्यक्रम में संघ से जुड़े राजवीर सिंह ने यह बात कही। शिव शाखा की ओर से दीनदयाल उपाध्याय पार्क में आयोजित वार्षिकोत्सव में स्वयंसेवकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति विश्व कल्याण, प्राणियों में सदभावना ,धर्म की जय के आदर्शों पर स्थापित है। भारत विश्व गुरु रहा है। संघ का उददेश्य भारत माता को परम वैभव पर पहुंचाना है| परम वैभव की स्थिति में सभी को भोजन, कपड़ा, मकान ,शिक्षा, चिकित्सा देश की आंतरिक एवं बाह्य सुरक्षा, पड़ोसियों से अच्छे संबंध और सामाजिक समरसता एवं सदभाव होना चाहिए| उन्होंने कहा कि शाखा में स्वयंसेवकों को व्यक्तित्व, कृतत्वि, नेतृत्व, समझदारी एवं समर्पण इन पांच गुणों का विकास कर समाज के लिए कार्य करना चाहिए। शाखा हमारा तंत्र है तथा संघ प्रार्थना हमारा मंत्र है। प्रार्थना में स्वयंसेवकों द्वारा अजेय ,शक्ति, सुशीलता, ज्ञान, ध्येय निष्ठा और वीर व्रत इन पांच गुणों की मांग भगवान से की जाती है। समाज का कार्य भगवान का कार्य मानकर राष्ट्र निर्माण किया जाता है। विनोद राठी ने कहा कि युवा भविष्य के भारत भाग्य विधाता हैं। स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। हम अपने में सुधार लाएंगे तभी देश सुधरेगा। गणवेश धारी स्वयंसेवकों द्वारा योग, आसन, खेल, क्षमता ,दंड का प्रदर्शन किया गया। संचालन हर्षित द्वारा किया गया। इस अवसर पर नितिन ,संदीप, अंशुल, संजय,अमित, श्याम, उदेश्य, अभिषेक, हरीश, दिव्यांश,ध्रुव,दीपक ,सहदेव आदि उपस्थित रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:RSS will become the carrier of Social Change