DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऊर्जा निगम की भूमिगत खुदाई पर नजर रखेगा जलसंस्थान

ऊर्जा निगम की ओर से भूमिगत की जा रही लाइन पर जलसंस्थान नजर रखेगा। निगम अधिकारियों ने दावा किया है कि इस प्रयोग से पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त होने की उम्मीद कम होगी। कुछ दिन पूर्व नगर निगम में समीक्षा बैठक में जेएम ने दोनों विभागों को मिलकर काम करने के निर्देश दिए थे। ताकि गर्मी में पेयजल लीकेज से लोगों को पानी की किल्लत न झेलनी पड़ी।

ऊर्जा निगम की ओर से अप्रैल माह में रामनगर बिजलीघर से सोलानीपुरम बिजलीघर तक भूमिगत लाइन डालने के कार्य को हरी झंडी मिली थी। निगम मच्छी मोहल्ला चौक तक भूमिगत लाइन डाल चुका है। अभी करीब साढ़े तीन किलोमीटर लाइन का कार्य बाकी है। कुछ दिन पूर्व विश्वकर्मा चौक पर खुदाई के दौरान पेयजल लाइन लीकेज हो गई थी। समस्या पर जेएम ने भी कड़ी नाराजगी जताते हुए लीकेज को जल्द दुरुस्त करने के निर्देश दिए थे। करीब दो दिन तक लीकेज से हजारों पानी सड़क पर बहकर बर्बाद हो गया था। लाइन से जुड़े उपभोक्ताओं को गंदे पानी के अलावा लो प्रेशर के पानी की आपूर्ति हो रही थी।

एसडीओ मोहम्मद उस्मान ने बताया कि खुदाई के दौरान जलसंस्थान के दो कर्मचारी मौके पर रहेगे। बताया कि जलसंस्थान के कर्मचारियों के बताए गए तरीके से खुदाई की जाएगी। ताकि पेयजल लाइन को नुकसान ना पहुंचे। दोनों विभाग दो दिन पूर्व लाइन का सर्वे भी कर चुके है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:power corporation will monitor the underground digging of the Corporation