अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एससीएसटी एक्ट में संशोधन का विरोध

एससीएसटी एक्ट में संशोधन का विरोध

एससीएसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद किए गए संशोधन के खिलाफ त्यागी कल्याण एवं विकास समिति ने राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा। कहा कि एक्ट में संशोधन होने से सामाजिक समरसता में कमी आएगी।समिति से जुड़े सदस्यों ने तहसीलदार मंजीत सिंह के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा। समिति ने कहा कि एससीएसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट ने इसके दुरुपयोग के चलते गिरफ्तारी से पहले जांच और अग्रिम जमानत की व्यवस्था दी थी, लेकिन इसके बाद इस निर्णय को संसद में पलट दिया गया। कहा कि अब एक्ट में संशोधन के जरिए बिना किसी जांच के तुरंत गिरफ्तारी और अग्रिम जमानत न दिए जाने के प्रावधान को लागू कर दिया गया। इसे त्यागी समाज लोकतंत्र, मानवाधिकार और नैसर्गिंक न्याय के खिलाफ मानता है। एक्ट में संशोधन से दलितों और समाज के अन्य लोगों के बीच सामाजिक समरता में कमी आएगी। झूठे मुकदमों में वृद्धि होगी। इस दौरान जेडी त्यागी, माधोराम त्यागी, श्याम कुमार त्यागी, नरेश त्यागी, ब्रजेश त्यागी, राजेंद्र त्यागी, नितिन त्यागी, योगेश त्यागी, विकास त्यागी, प्रमोद त्यागी, नरोत्तम त्यागी, मुनेश त्यागी, बालिस्टर, विनीत आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Opposed to amendment in the SCST Act