DA Image
28 नवंबर, 2020|2:08|IST

अगली स्टोरी

आईआईटी और बीआईएस मिलकर काम करेंगे

default image

आईआईटी रुड़की ने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआइएस) के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किया है। इसके तहत दोनों संस्थान इंजीनियरिंग, जल संसाधनों के विकास और प्रबंधन, नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं, बुनियादी ढांचे के विकास, मेडिकल बायोटेक्नोलॉजी और नैनोटेक्नोलॉजीआदि के क्षेत्र में सहयोग करेंगे।

आईआईटी निदेशक प्रो. अजीत चतुर्वेदी ने कहा कि भारतीय मानक ब्यूरो के साथ सहयोग और स्टैंडर्डैजेशन एंड कन्फॉर्मटी असेस्मेंट सुनिश्चित करने के देश के प्रयास में योगदान करने की दिशा में आगे बढ़ने को लेकर संस्थान खुश हैं। इस दौरान छात्रों को इंजीनियरिंग के विभन्नि विषयों में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मानकों के बारे में अधिक जागरूक करने के लिए भी काम करेंगे।

बीआईएस के महानिदेशक प्रमोद कुमार तिवारी ने कहा कि आईआईटी प्रौद्योगिकी और अनुसंधान में अपनी विशेषज्ञता के लिए प्रसिद्ध है। राष्ट्रीय मानकीकरण को और उन्नत करने की दिशा में उनकी यात्रा में भागीदार बनकर हम खुश हैं। मानकों को बढ़ावा देने और पाठ्यक्रम के साथ उसको जोड़ने के लिए सहयोग करने को लेकर उत्सुक हैं। दोनों संस्थान राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ब्यूरो की तकनीकी समितियों के माध्यम से मानकीकरण गतिविधि में भाग लेंगे।

इसके साथ ही स्टैंडर्डाजेशन एंड कन्फॉर्मटी असेसमेंट से संबंधित अनुसंधान और विकास परियोजनाएं शुरू करेंगे। संयुक्त रूप से सेमिनार, सम्मेलन, कार्यशाला, व्याख्यान और स्टैंडर्डाजेशन एंड कन्फॉर्मटी असेसमेंट से संबंधित पब्लिकेशन और साहित्य भी साझा किया जाएगा। समझौता ज्ञापन के अनुसार, गोपनीय जानकारी, तकनीकी जानकारी, पेटेंट जैसी बौद्धिक संपदा का स्वामित्व इसके विकास के लिए जिम्मेदार संस्था के साथ निहित होगा। संयुक्त रूप से संपत्ति को विकसित करने की स्थिति में दोनों पक्ष स्वामित्व के हकदार होंगे।