DA Image
24 सितम्बर, 2020|3:55|IST

अगली स्टोरी

हिन्दी सनातन संस्कृति से जुड़ी धरोहर है: स्वामी प्रकाश

default image

भारतीय संस्कृति सेवार्थ न्यास और कम्युनिटी रेडियो फेडरेशन ने मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय वेब हिंदी पखवाड़े की शुरुआत की। प्राचीन अवधूत मंडल आश्रम के महंत स्वामी रुपेंद्र प्रकाश ने ऑनलाइन उद्घाटन सत्र आरंभ किया। पहले दिन के कार्यक्रम में कई देशों के विद्वानों ने हिन्दी को लेकर अपने विचार ऑनलाइन प्रस्तुत किए। वक्ताओं ने कहा कि हिन्दी सनातन संस्कृति से जुड़ी धरोहर है।

अलावलपुर (लक्सर) की संस्था भारतीय संस्कृति सेवार्थ न्यास द्वारा हर साल एक से 15 सितंबर तक अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी पखवाड़ा मनाया जाता है। इस साल कोरोना काल में नई दिल्ली स्थित कम्युनिटी रेडियो स्टेशन के सहयोग से सारे कार्यक्रम ऑनलाइन किए जाने हैं। मंगलवार को स्वामी रुपेंद्र प्रकाश ने इसके उद्घाटन सत्र की शुरुआत करते हुए कहा कि हिन्दी सनातन संस्कृति से जुड़ी हुई एक धरोहर है। यह देश के नागरिकों के साथ ही विदेशों में रहने वाले लाखों भारतीयों को एक सूत्र में बांधने का काम करती है। आयोजक डॉ. सतीश कुमार शास्त्री ने कहा कि हिन्दी हिंदू की नहीं बल्कि हिन्दुस्तान के हर समुदाय, अमीर, गरीब के विचार व्यक्त करने वाली भाषा है। फिजी में भारतीय उच्चायुक्त के पद से सोमवार को सेवानिवृत्त हुई पद्मजा ने फिजी में हिंदी के संवर्द्धन के लिए सरकार द्वारा किए गए सकारात्मक प्रयास की जानकारी दी। कनाडा, न्यूजीलैंड, बेल्जियम, रूस, जर्मनी आदि देशों में हिन्दी से जुड़े डॉ. कुलदीप महुआ, डॉ. श्रीराम परिहार, डॉ. वासुदेवन आदि विद्वानों ने भी ऑनलाइन विचार व्यक्त किए। उद्घाटन सत्र के कार्यक्रम शुरू होने से पूर्व सभी अतिथियों ने देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक जताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि भी अर्पित की गई।

हिन्दी पखवाड़े के दूसरे दिन बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बाल कवि सम्मेलन होना है। इसमें कविता पाठ के लिए खानपुर के प्रह्लादपुर के मनोज कुमार और रेणू चौधरी की बेटी मानसी का भी चयन हुआ है। मानसी नेशनल कन्या इंटर कॉलेज खानपुर की छात्रा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hindi is a heritage associated with Sanatan culture Swami Prakash