DA Image
25 सितम्बर, 2020|2:20|IST

अगली स्टोरी

फसल सुखाने में किसानों को करनी पड़ रही मशक्कत

default image

मौसम साफ हो जाने के बाद अब किसान बारिश में भीगी हुई गेहूं की फसल को सुखाने में जुट गए हैं। इसके लिए किसानों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। अब भी बारिश को लेकर किसान आशंकित हैं।असमय हुई बारिश ने किसानों की मेहनत को पानी में मिला दिया है। खेतों से कट चुका काफी गेहूं व भूसा बारिश में भीग गया था। लिहाजा भीगे हुए गेहूं की थ्रेसिंग संभव नहीं होती। जिसके बाद शनिवार को मौसम साफ होने के बाद किसान भीगी हुई गेहूं की फसल को सुखाने में जुट गए हैं। किसान जयवीर सिंह, इंदरपाल सिंह आदि ने बताया कि कटी हुई फसल के बारिश में भीग जाने के बाद उसे सुखाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। गेहूं की बंधी हुई गट्ठर को पहले एक साइड से सुखाया जाता है। फिर दूसरी साइड से सुखाया जाता है। इसके बाद सीधा खड़ा कर उसे सुखाने की कोशिश की जाती है। कई दिन तक इस प्रक्रिया को अपनाने के बाद गेहूं थ्रेसिंग की जाती है। इसके बाद भी आनाज की क्वालिटी पहले वाली नहीं रह जाती। दाने का रंग काला पड़ जाता है। बाद में अनाज को पीसने पर आटे का कलर भी बदल जाता है। भीगे हुए अनाज को स्टोर करने में भी काफी देखभाल करनी पड़ती है। किसानों का कहना है कि यदि अब बारिश हो गई तो बचा गेहूं पूरी तरह से नष्ट हो जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Farmers have to struggle to dry the crop