DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निलंबन के खिलाफ कर्मचारियों ने खोला मोर्चा

निलंबन के खिलाफ कर्मचारियों ने खोला मोर्चा

उत्तराखंड रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद ने रुड़की के सहायक महाप्रबंधक के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। यूनियन ने कर्मचारी के निलंबन की कार्रवाई को गलत बताते हुए उसे वापस लेने की मांग की है। निलंबन वापस नहीं लेने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। रुड़की रोडवेज में तैनात कैशियर हामिद अली को कर्मचारियों के वेतन में गड़बड़ी के आरोप में बुधवार को सहायक महाप्रबंधक ने निलंबित कर दिया था। इस कार्रवाई के खिलाफ रोडवेज कर्मचारी यूनियन ने मोर्चा खोल दिया है। कार्रवाई को गलत बताते हुए निलंबन को वापसी लेने की मांग की है। रुड़की रोडवेज परिसर में पत्रकारों से वार्ता करते हुए निलंबित कर्मचारी हामिद अली ने बताया कि किसी प्रकार की कोई गड़बड़ी ही नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि फरवरी में जिस राशि का चेक आया था वह उन्होंने स्वयं जीएम के साथ जाकर बैंक में जमा करवाया था। उन्होंने कहा कि अगर वाकई में कोई गड़बड़ी हुई है तो उसकी एफआईआर करनी चाहिए थी और नोटिस जारी करना था। लेकिन बिना नोटिस जारी किए यह कार्रवाई व्यक्तिगत दुश्मनी को दर्शाती है। उन्होंने कहा कि इस कार्रवाई के बाद उनकी छवि धूमिल हुई है। उत्तराखंड रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष संत कुमार त्यागी ने बताया कि यूनियन चुनाव आयोग से भी जानकारी लेगा कि आचार संहिता में निलंबन की कार्रवाई की जा सकती है। उन्होंने कहा कि अगर इस कार्रवाई को वापस न लिया गया तो आंदोलन किया जाएगा। जिसमें कर्मचारी भूख हड़ताल, कार्य बहिष्कार आदि करेंगे। उन्होंने इस मामले के निष्पक्ष जांच की मांग की। इस अवसर पर यूनियन के अध्यक्ष सरफराज अहमद, सचिन सैनी, सतवीर सिंह, सतीश कुमार, सोमप्रकाश आदि लोग मौजूद रहे। निलंबत कर्मी हामिद अली ने सहायक महाप्रबंधक को पत्र भेजा है। जिसमें अविलंब निलंबन वापस लिए जाने की मांग की। वहीं, सहायक महाप्रबंधक आरएल पैन्यूली का कहना है कि निलंबन की कार्रवाई दस्तावेजों के आधार पर की गई। कहा कि बिना अनुमति के पत्रकार वार्ता की गई, इसकी जानकारी उच्च स्तर पर की जाएगी।000यह था मामला सहायक महाप्रबंधक ने बताया था कि कर्मचारियों के वेतन में से 4.26 लाख रुपये रोडवेज की एक समिति के खाते में डाले गए थे। इसे नियमों के मुताबिक गलत बताया गया था। कर्मचारियों के वेतन के लिए करीब 26 लाख रुपये जारी हुए थे। मामले में चार और कर्मचारियों की भूमिका भी जांच के दायरे में है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Employees opened against suspension