DA Image
22 अक्तूबर, 2020|11:36|IST

अगली स्टोरी

किसानों को गुलाम बनाने की तैयारी कर रही केंद्र सरकार

किसानों को गुलाम बनाने की तैयारी कर रही केंद्र सरकार

उकिमो की मासिक पंचायत में नए केंद्रीय कृषि बिल के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। वक्ताओं ने कहा कि सरकार दूसरी सरकारी संस्थाओं की तरह ही कृषि को भी बड़े उद्योगपतियों के पास गिरवी रखने की तैयारी कर रही है। उन्होंने इसके खिलाफ सोमवार को पूरे जिले में प्रदर्शन करने का निर्णय भी लिया।

शेखपुरी में आयोजित उत्तराखंड किसान मोर्चा की मासिक पंचायत में केंद्र सरकार के नए कृषि अध्यादेश पर चर्चा की गई। जिलाध्यक्ष महकार सिंह ने कहा कि मोदी की सरकार रेलवे, टेलीकॉम, शिक्षा, उड्डयन आदि सेक्टरों को निजी हाथों में देने की तैयारी पहले से कर रही है। अब नए कृषि बिल से किसान भी मोदी के चहेते अंबानी व अडाणी जैसे बड़े उद्योगपतियों के हाथ की कठपुतली बनकर रह जाएंगे। कहा कि सरकार ने मंडी शुल्क खत्म करके व्यापारियों को फायदा पहुंचाया है, पर कृषि उपज के एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) की व्यवस्था को समाप्त करने से किसान को नुकसान होगा। वक्ताओं ने कहा कि भाजपा शुरू से उद्योगपतियों के पक्ष में रही है, जबकि उनके फैसलों से किसान मजदूरों का अहित हो रहा है। उन्होंने मांग की कि नए बिलों को पारित कराने से पहले केंद्र सरकार किसान नेतृत्व से सलाह मशवरा करके इसमें अपेक्षित संशोधन करे। ऐसा न करने पर उन्होंने पूरे देश में आंदोलन शुरू करने की चेतावनी भी दी। तय हुआ कि सोमवार को बिल के खिलाफ लक्सर, रुड़की, हरिद्वार, मंगलौर, नारसन, भगवानपुर आदि में प्रदर्शन कर सरकार को ज्ञापन भेजा जाएगा। अध्यक्षता सरदार जसवीर व संचालन दुष्यंत कुमार ने किया। सतवीर झबरेड़ी, नरेंद्र तुगलपुर, आकिल हसन, जोधसिंह, मुन्नू चौधरी, कालूराम प्रधान, विजयपाल, नेत्रपाल, पहल सिंह, सरदार अमृतपाल सिंह, आजाद सिंह, सतवीर प्रधान, जॉनी कुमार, सतीश प्रधान, संदीप चौधरी, कामिल प्रधान आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Central government preparing to enslave farmers