DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › रुड़की › बावर में दीपावली के तीसरे दिन बिरुडी की धूम
विकासनगर

बावर में दीपावली के तीसरे दिन बिरुडी की धूम

हिन्दुस्तान टीम,विकासनगरPublished By: Newswrap
Fri, 20 Oct 2017 07:25 PM
बावर में दीपावली के तीसरे दिन बिरुडी की धूम

बावर क्षेत्र में परपंरागत तरीके से दिवाली का जश्न जारी है। हर गांव के पंचायती आंगन लोक गीतों व नृत्य से गुलजार हैं। होलियात के बाद आमावस्या व शुक्रवार को क्षेत्र के गांवों में बिरुड़ी पर्व मनाया गया। इसमें गांव के स्याणा ने पंचायती आंगन में प्रसाद रूपी अखरोट बिखेरे। जिन्हें ग्रामीणों ने प्रसाद के रूप में ग्रहण किया। देर रात तक गांवों में बिरसू के गीत नृत्य का दौर चला। बावर क्षेत्र के महासू मंदिर हनोल, बाशिक मंदिर मैंद्रथ, शेडकुड़िया महाराज मंदिर रायगी, महासू मंदिर खाटुवा, अणू, दधौ, खरोड़ा-कुनैन, मशक समेत आसपास के करीब पचास से ज्यादा गांवों में शुक्रवार को बिरुड़ी त्योहार मनाया गया। बावर-देवघार के पचास गांवों में ग्रामीण महिलाओं और पुरुषों ने एक दूसरे को अखरोट भेंटकर दिवाली की बधाई दी। पंचायती आंगन में एकत्र हुई सैकड़ों महिलाओं ने पूरे दिन तांदी-नृत्य कर बिरुड़ी का जश्न मनाया। इस दौरान बिरसू के गीत गाये गये। इनमें बौर मी न जाए बिरसऊ.., होनरी रक्षिड का पांच किला खिडऊ.., बिरसा ताऊथा हनोरी बोइली.. आदि गीतों पर देर रात तक महिला पुरुषों ने नृत्य किया। इस दौरान हारुल के गीत मोडे रे मोडाई, केरे मोडाई.., चार महासू हरटी दुर्गा माई.. पर भी सामूहिक नृत्य किया गया। इस मौके पर स्याणा जगत राम, संतराम, पूरण सिंह आदि मौजूद रहे।

संबंधित खबरें